Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2023 · 1 min read

बुंदेली लघुकथा – कछु तुम समजे, कछु हम

#बुंदेली_लघुकथा -‘#कछु_तुम_समजे_कछु_हम_समजे ’*

एक बेर की बात है कै इक राहगीर माल की गठरी मूँड पै धरे कऊ जा रऔ हतो। इतैक में पाछे से एक घुरसवार निकरौ। गठरी एनई भारी हती अरु राहगीर सोउ तनक हार गओ हतो, ईसे ऊने सवार सें अपनी गठरी कौं अगाऊँ के ठौर तक घुरवा पै धरवे के लाने कइ, पै घुरसवार नैं मना करदइ और अगाउँ कड़ गऔ।

तनक देर में इतै घुरसवार नें सोंसी कै बेकार में ई हात में आऔ माल छोड़ दओ,उतै उ राहगीर ने जा सोंसी कै चलो जौं नौंनो भओ,जोन ऊनें मना कर दइ कऊ वो गठरी लैंकें भाग जातो तौ अपुन ऊकौ कितै ढूँढ़त राते।

संयोग से कछु दूरी पै फिरकै उन दोइयन की भैंट हो गई, ई दार सवार नें राहगीर सें कइ इतै ल्याओ, तुमाई गठरी घुरवा पै धर लें, अपुन भौत हार गये हुओ,तो राहगीर ने कइ ‘बस रान दो, भाई, कछु तुम समजे कछु हमई समजे’।

***

शिक्षा-

यह जा कैं सकत के जो होत नोनो होत। इकदम से कोनउ खौ मना नइ करवो चइए और फिर बेइ आदमी बाद में उपत कै मान जाये तो समजो कछु गडबड है उके मन में खोट है।
***

#कथाकार – #राजीव_नामदेव ‘#राना_लिधौरी’
संपादक ‘#आकांक्षा’ (हिन्दी) पत्रिका
संपादक ‘#अनुश्रुति’ (बुन्देली) पत्रिका
अध्यक्ष-म.प्र लेखक संघ,टीकमगढ़
अध्यक्ष- वनमाली सृजन पीठ, टीकमगढ़
कोषाध्यक्ष-श्री वीरेन्द्र केशव साहित्य परिषद्
शिवनगर कालौनी,#टीकमगढ़ (म.प्र.)
पिनः472001 मोबाइल-9893520965
E Mail- ranalidhori@gmail.com
Blog – rajeevranalidhori.blogspot.com

1 Like · 130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
बलबीर
बलबीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
कवि मोशाय।
कवि मोशाय।
Neelam Sharma
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
Ms.Ankit Halke jha
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
"जिन्हें तैरना नहीं आता
*Author प्रणय प्रभात*
नज़र का फ्लू
नज़र का फ्लू
आकाश महेशपुरी
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
*नहीं जब धन हमारा है, तो ये अभिमान किसके हैं (मुक्तक)*
*नहीं जब धन हमारा है, तो ये अभिमान किसके हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
Vishal babu (vishu)
💐अज्ञात के प्रति-61💐
💐अज्ञात के प्रति-61💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक शाम उसके नाम
एक शाम उसके नाम
Neeraj Agarwal
दूजी खातून का
दूजी खातून का
Satish Srijan
तमाम उम्र काट दी है।
तमाम उम्र काट दी है।
Taj Mohammad
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
Nishant prakhar
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2889.*पूर्णिका*
2889.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ज़रूरी तो नहीं
ज़रूरी तो नहीं
Surinder blackpen
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...