Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे

150 बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150
*दोहा प्रदत्त शब्द-भुन्नाने /भुन्नानें (क्रोधित)🌹
संयोजक- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
आयोजक जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़
प्राप्त प्रविष्ठियां :-
1
भन्नानें नइँयाँ कभउँ,जीवन भर दव प्यार।
हे ईसुर सबखों दिऔ, मोरे-से भरतार।।
***
-गोकुल प्रसाद यादव, नन्हींटेहरी
2
भन्नानें फरसा लयें, परसराम महराज।
शिव धनु टौरौ कौन नें,हमें बताओ आज।।
***
-भगवान सिंह लोधी “अनुरागी”,हटा
3
भन्नाने से तुम फिरो , ई में काहै सार ।
चित्त शान्त अपनों करो ,बांटो जी भर प्यार ।।
****
– डॉ. बी.एस.रिछारिता, छतरपुर
4
भन्नानें मोरे बालमा, टाठी दीनीं फैंक।
बातैं पाछूँ कर लिये, पैलाँ रोटी सैंक।।
***
-प्रदीप खरे ‘मंजुल’ टीकमगढ़
5
सँइयाँ भन्नाने फिरत,सुनैं न कोनउ बात ।
बोलें गटा निपोरकैं,मौड़न सैं चिच्यात ।।
****
-शोभाराम दाँगी ‘इंदु’,नदनवारा
6
भंन्नानें श्री राम जी , धरे धनुष पै बान ।
समुद आन चरनन परे,चूर भऔ अभिमान।।
***
-आशाराम वर्मा “नादान ” पृथ्वीपुर
7
भुन्नाने बैठे पिया , भुन्सारे से दोर |
बात समझ ना आ रई , गोरी करे निहोर ||
***
-सुभाष सिंघई , जतारा
8
मस्तानी कलियाँ ख़िलीं, फूलीं नईं समात।
भन्नाने भौरा फिरें, कलन-कलन मड़रात।।
***
-एस.आर. ‘सरल’, टीकमगढ़
9
राम लखन सीता सहित, गये हते वनवास।
अपनी माता पर भरत, भन्नाने ते खास।।
***
-रामानन्द पाठक नंद, नैगुवां

10
भन्नाने तुम हो फिरत, करते तनिक विचार।
खुद ने खुद गलती करी, होते काय किनार।।
***
-मूरत सिंह यादव, दतिया
11
भुन्नाने से बै फिरत, खात नईं बै कौर।
राम भरोसें दिन कटत,राते नइयाँ ठौर ।।
***
– श्यामराव धर्मपुरीकर,गंजबासौदा,विदिशा म.प्र.
***
संयोजक- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’

1 Like · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
#मैथिली_हाइकु
#मैथिली_हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
👌ग़ज़ल :--
👌ग़ज़ल :--
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी की अहमियत
ज़िंदगी की अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
Tarun Singh Pawar
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
Madhuyanka Raj
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
Ravi Prakash
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
"बेजुबान"
Pushpraj Anant
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जो सुनना चाहता है
जो सुनना चाहता है
Yogendra Chaturwedi
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
VINOD CHAUHAN
छोटे गाँव का लड़का था मैं
छोटे गाँव का लड़का था मैं
The_dk_poetry
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन जीते रहने के लिए है,
जीवन जीते रहने के लिए है,
Prof Neelam Sangwan
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कविता
कविता
Rambali Mishra
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
Loading...