Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2022 · 1 min read

बुंदेली दोहा:-

बुंदेली दोहा:-
1

#राना हम तुम अब कहैं , हओ कहें दिल खोल |
बुंदेली में लिख चलै , उम्दा -उम्दा बोल ||

2
हओ-हओ बें कर रयै , धरै न डब्बल नेंग |
#राना समदन चिढ़‌ कहै, रय कछुआ से रेंग ||
****
-राजीव नामदेव राना लिधौरी,
टीकमगढ़ (मप्र) भारत

2 Likes · 217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
शेखर सिंह
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
..
..
*प्रणय प्रभात*
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
आसमान को उड़ने चले,
आसमान को उड़ने चले,
Buddha Prakash
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
Shweta Soni
खोटे सिक्कों के जोर से
खोटे सिक्कों के जोर से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कभी कभी हम हैरान परेशान नहीं होते हैं बल्कि
कभी कभी हम हैरान परेशान नहीं होते हैं बल्कि
Sonam Puneet Dubey
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जवानी
जवानी
Bodhisatva kastooriya
वो मुझे
वो मुझे "चिराग़" की ख़ैरात" दे रहा है
Dr Tabassum Jahan
बाल मन
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
आप से दर्दे जुबानी क्या कहें।
आप से दर्दे जुबानी क्या कहें।
सत्य कुमार प्रेमी
खंडकाव्य
खंडकाव्य
Suryakant Dwivedi
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
*मिक्सी से सिलबट्टा हारा (बाल कविता)*
*मिक्सी से सिलबट्टा हारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
माँ की ममता के तले, खुशियों का संसार |
माँ की ममता के तले, खुशियों का संसार |
जगदीश शर्मा सहज
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
Taj Mohammad
यादगार बनाएं
यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
"तेरे बगैर"
Dr. Kishan tandon kranti
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...