Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 3 min read

बिन सूरज महानगर

समय बदल चुका था, सुबह शाम दिन रात मौसम ऋतु गर्मी सर्दी सब कुछ अपने समय को खोते से जा रहे थे और इसी बीच एक नन्हा बालक अपने पापा के साथ महानगर के एक छोटे से पार्क मे सुबह सुबह अपनी मस्ती में घूम रहा था।

आज की सुबह कितनी सुहावनी है,यह आवाज सोहन के कानों में जैसे ही पहुंची,
पापा आज की सुबह कितनी सुहावनी है? सोहन के पापा ने जवाब दिया – बेटा जितनी सुहावनी कल थी,उतनी ही आज है।

सोहन जवाब से थोड़ा कम संतुष्ट सा होते हुए फिर से अपनी नादानी के साथ सवाल पूछ लेता है -पापा कल तो आने वाला है?
लेकिन सोहन के पापा अपनी सुहावनी सुबह के साथ इस सवाल को हवा में बहाकर अपनी सेर के मजे सोहन के साथ लेते लेते आगे बढ़ते जाते है

सोहन अपने सवाल का जवाब न मिलने पर भी आगे बढ़ता जाता है। बीच पार्क मे एक पौधे के फूलों को देख सोहन हाथ झटककर उसके पास चला जाता है।
इसी बीच सोहन के पापा एक परिचित से बातें करने मे व्यस्त हो जाते है।

अरे! जैन साहब,आप कब से इस पार्क मे आने लगे। सोहन के पापा जैन साहब से हाल चाल पूछ लेते है।
अब यहां आए,चाहे वहां जाए,सब एक सा ही लगने लगा है
जैन साहब अपनी मानसिक स्थिति का ब्यौरा मानो जैसे पेश कर देते है। जैन साहब अपने जीवन की आखिरी सुहावनी सुभाओं को देख रहे थे।
वक्त,बहुत कुछ दिखला देता है,जैन साहब? इस बार सोहन के पापा सवाली बातचीत करने के इरादे से सवाल करते है।
यह प्रश्न जैन साहब की वाणी को आगे प्रकट करने से रोक देता है।

इसी बीच सोहन, फूलों के साथ खेलकर वापिस आ जाता है और फिर से पापा से सवाल करने लगता है
उस पौधे का नाम क्या है?,पापा
फूल कैसे आते है?,पापा
इसका कलर ऐसा क्यों है?,पापा
ना जाने ढेर सारे सवालों की बौछार पापा पर कर देता है.
जैन साहब इन सवालों को अनसुना सा करते हुए पार्क मे घूमने आगे निकल जाते है।

अभी तुम फूलों का आनंद लो।इस बार सोहन के पापा गंभीर रूप से सवाल का जवाब देते है।
बच्चों को सही समय पर सही ज्ञान देना कितना उचित हो जाता है वो इस जवाब मे दिखलाई दे सकता है।लेकिन
सोहन,इस जवाब को हवा मे उड़ाकर आगे बढ़ जाता है।
और दोनों के कदम इस बार कुछ हद तक एक साथ आगे बढ़ जाते है।
सोहन के कदम थोड़ी देर पापा का साथ देने के बाद पीछे हो जाते है।

पापा हम इसी पार्क में हर दिन क्यों आते है?लेकिन सवाल, जुबान पर आगे रहते हुए सोहन फिर से पूछता है।

क्या यह सबसे सुंदर पार्क है। इस बार सोहन के पापा,सोहन से बात करने के इरादे से जवाब देने को होते ही है कि फिर से एक और सवाल आ जाता है।
यह सुंदर क्या चीज होती है?पापा,लेकिन सोहन अपनी नादानी के सवालों मे उलझाने की कोशिशों मे रहता है।
इस सवाल के बाद कुछ देर सोहन के पापा शांत मन से सोहन के नन्हें हाथों को पकड़ कर अपने कदमों को धीमा कर साथ साथ आगे बढ़ते है। जैसे पार्क की सुंदरता मे सोहन के पापा खो चुके हो।

यह इतना बड़ा पार्क क्यों बनाया है?पापा
क्या इसमें हम अपना घर बना सकते है?पापा
हम यहीं क्यों नहीं रुक सकते? पापा

सवाल बढ़ते जाते है और पार्क का निकासी गेट आ जाता है
सोहन के पापा मुड़कर पूरा पार्क देखते है और सामने दूर एक बड़ी इमारत के पीछे से हल्की सी रोशनी दिखाई देती है,और फिर सोहन के पापा कहते है

यहीं सुंदरता बची है,बेटा।

Language: Hindi
2 Likes · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
पक्की छत
पक्की छत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मातृ भाषा हिन्दी
मातृ भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
😊#लघु_व्यंग्य
😊#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
Shekhar Chandra Mitra
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
* सुहाती धूप *
* सुहाती धूप *
surenderpal vaidya
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
दिल में है जो बात
दिल में है जो बात
Surinder blackpen
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
पहले साहब परेशान थे कि हिन्दू खतरे मे है
पहले साहब परेशान थे कि हिन्दू खतरे मे है
शेखर सिंह
"अकाल"
Dr. Kishan tandon kranti
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कता
कता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
लौटना मुश्किल होता है
लौटना मुश्किल होता है
Saraswati Bajpai
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...