Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jan 2023 · 1 min read

*बिना तुम्हारे घर के भीतर, अब केवल सन्नाटा है ((गीत)*

बिना तुम्हारे घर के भीतर, अब केवल सन्नाटा है ((गीत)
______________________
बिना तुम्हारे घर के भीतर, अब केवल सन्नाटा है
1
एक डराती हुई शांति, घरभर में पूरे छाई है
देख-देख सूनी दीवारें, आती रोज रुलाई है
जीवन भर की पूॅंजी खोई, समझो इतना घाटा है
2
याद तुम्हारे हाथों की, पोती कर रही पकौड़ी है
अंतर्मन से हर पुकार पर, वह जो भागी-दौड़ी है
याद कर रही समय तुम्हारे, संग-साथ जो काटा है
3
कुछ खटपट-कुछ टोकाटाकी, अब किससे हो पाएगी
किसकी सख्त नसीहत, बन आदेशों-सी अब आएगी
जब से तुम सो गईं खिड़कियों, दरवाजों को पाटा है
बिना तुम्हारे घर के भीतर, अब केवल सन्नाटा है
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997615451

227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*गर्मी के मौसम में निकली, बैरी लगती धूप (गीत)*
*गर्मी के मौसम में निकली, बैरी लगती धूप (गीत)*
Ravi Prakash
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
😜 बचपन की याद 😜
😜 बचपन की याद 😜
*Author प्रणय प्रभात*
वोट की राजनीति
वोट की राजनीति
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
2564.पूर्णिका
2564.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
युवा शक्ति
युवा शक्ति
संजय कुमार संजू
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
**माटी जन्मभूमि की**
**माटी जन्मभूमि की**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
अखंड भारत
अखंड भारत
विजय कुमार अग्रवाल
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
पुष्प
पुष्प
Dinesh Kumar Gangwar
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तन पर हल्की  सी धुल लग जाए,
तन पर हल्की सी धुल लग जाए,
Shutisha Rajput
Loading...