Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2023 · 1 min read

बिछड़ कर तू भी जिंदा है

बिछड़ कर तू भी जिंदा है
बिछड़ कर मैं भी जिंदा हूँ
मुझमें कहीं तू जिंदा है
तुझमें कहीं मैं जिंदा हूँ।

डॉ. दीपक मेवाती

1 Like · 359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
फिर आई स्कूल की यादें
फिर आई स्कूल की यादें
Arjun Bhaskar
इक दिन तो जाना है
इक दिन तो जाना है
नन्दलाल सुथार "राही"
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
Ms.Ankit Halke jha
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
अनंत करुणा प्रेम की मुलाकात
अनंत करुणा प्रेम की मुलाकात
Buddha Prakash
कोई नहीं देता...
कोई नहीं देता...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"आभाष"
Dr. Kishan tandon kranti
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विपक्ष से सवाल
विपक्ष से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
तुम  में  और  हम  में
तुम में और हम में
shabina. Naaz
पिता
पिता
Swami Ganganiya
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
*Author प्रणय प्रभात*
!! घड़ी समर की !!
!! घड़ी समर की !!
Chunnu Lal Gupta
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
*मानपत्रों से सजा मत देखना उद्गार में (हिंदी गजल/
*मानपत्रों से सजा मत देखना उद्गार में (हिंदी गजल/
Ravi Prakash
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मजे की बात है ....
मजे की बात है ....
Rohit yadav
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
गूढ़ बात~
गूढ़ बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
प्रेम निभाना
प्रेम निभाना
लक्ष्मी सिंह
संकट..
संकट..
Sushmita Singh
Loading...