Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2022 · 1 min read

बिखरे हम टूट के फिर कच्चे मकानों की तरह

जीस्त में आया कोई आँधी तूफानों की तरह
बिखरे हम टूट के फिर कच्चे मकानों की तरह

रात दिन बेबसी है एक निवाले के लिए
खुदकुशी कर न ले मजबूर किसानों की तरह

ज़िन्दगी खेल नहीं क्या क्या दिखाई मुझको
हर घड़ी लड़ता रहा मैं भी जवानों की तरह

कोशिशें लाख करो तुम भी भुलाने को मुझे
पर मिटूंगा न ज़िहन से मैं निशानों की तरह

फूल खिलते थे यहाँ रंग बिरंगे कितने
रह गया है वो चमन आज वीरानों की तरह

कितने मजबूत इरादे थे कभी मेरे भी
अब हूँ मजबूर किसी प्रेम दीवानों की तरह

नाता जन्मों का रहा है ख़ुदा मेरा जिनसे
“अश्क” अब बचके निकलते है बेगानों की तरह

– “अश्क”

Language: Hindi
232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
"अपने ही इस देश में,
*Author प्रणय प्रभात*
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
सजे थाल में सौ-सौ दीपक, जगमग-जगमग करते (मुक्तक)
सजे थाल में सौ-सौ दीपक, जगमग-जगमग करते (मुक्तक)
Ravi Prakash
3008.*पूर्णिका*
3008.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कॉफ़ी की महक
कॉफ़ी की महक
shabina. Naaz
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
Indu Singh
दिकपाल छंदा धारित गीत
दिकपाल छंदा धारित गीत
Sushila joshi
बेवफा
बेवफा
नेताम आर सी
चुनाव आनेवाला है
चुनाव आनेवाला है
Sanjay ' शून्य'
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
पूर्वार्थ
"जवाब"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
प्रभु हैं खेवैया
प्रभु हैं खेवैया
Dr. Upasana Pandey
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
1...
1...
Kumud Srivastava
काश - दीपक नील पदम्
काश - दीपक नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...