Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 2 min read

बाल कहानी- रोहित

बाल कहानी- रोहित
———–
रोहित अपने पिताजी से कहता है कि,”पिताजी मेरा मन बिस्किट खाने का है, आप मुझे पैसे दे दीजिए। मैं अपने लिए और छोटी बहन के लिए बिस्किट लाना चाहता हूँ।”
रोहित के पिताजी ने रोहित को दस रुपये दिये और कहा कि,”दो पैकेट बिस्किट ले आओ। एक तुम ले लेना। एक अपनी छोटी बहन को दे देना। रोहित पास की दुकान में गया। वहाँ से उसने पाँच रुपये के दो बिस्किट दस रुपये में खरीदे और घर की ओर चल दिया। घर आते वक्त रोहित का पैर फिसला और एक पैकेट बिस्किट नाली में जा गिरा। रोहित ने तुरंत नाली से बिस्किट उठा लिया। जेब से रुमाल निकालकर रोहित ने बिस्किट के पैकेट को साफ किया और घर की ओर चल दिया। घर पहुँचकर वह सोच में पड़ गया कि कौन सा बिस्किट वह अपनी छोटी बहन को दे? हालाँकि बिस्किट के पैकेट पर लगी गंदगी रोहित अपने रुमाल से साफ कर चुका था, पर रोहित को अपने अध्यापक की बात याद आ रही थी कि- जो अपने लिए पसंद करो, वही दूसरों के लिए पसंद करो। रोहित ने सोचा- यह तो अपनी छोटी बहन है। हम जो भी अपने लिए पसंद करें, वही दूसरों के लिए पसंद करें। जब मैं यह बिस्किट नहीं खा सकता तो मैं अपनी छोटी बहन को क्यों दूँ? उसने छोटी बहन को नाली में गिरा हुआ बिस्कुट न देकर साफ बिस्कुट दिया और दूसरा उसने रख दिया। उसने पिता जी से सारी बात बता दी। पिताजी ने रोहित की पीठ थपथपाई। विद्यालय के शिक्षक की भी तारीफ की और खुद जाकर दुकान से रोहित के लिए बिस्किट लाये। रोहित बिस्किट पाकर बहुत खुश हुआ।

शिक्षा
जो चीज हमें पसंद न हो, वह हमें दूसरों को देने का प्रयास नहीं करना चाहिए।

शमा परवीन, बहराइच (उ० प्र०)

1 Like · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
*मौसम बदल गया*
*मौसम बदल गया*
Shashi kala vyas
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
बोगेनविलिया
बोगेनविलिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐प्रेम कौतुक-532💐
💐प्रेम कौतुक-532💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काम ये करिए नित्य,
काम ये करिए नित्य,
Shweta Soni
पग मेरे नित चलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।
Anil Mishra Prahari
मुझमें मुझसा
मुझमें मुझसा
Dr fauzia Naseem shad
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
Choose yourself in every situation .
Choose yourself in every situation .
Sakshi Tripathi
"आशा" की चौपाइयां
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शारदीय नवरात्र
शारदीय नवरात्र
Neeraj Agarwal
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Mukesh Kumar Sonkar
जल प्रदूषण पर कविता
जल प्रदूषण पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेतरतीब
बेतरतीब
Dr. Kishan tandon kranti
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
गजलकार रघुनंदन किशोर
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
कभी किताब से गुज़रे
कभी किताब से गुज़रे
Ranjana Verma
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
श्याम सिंह बिष्ट
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
कभी मोहब्बत के लिए मरता नहीं था
कभी मोहब्बत के लिए मरता नहीं था
Rituraj shivem verma
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विवादित मुद्दों पर
विवादित मुद्दों पर
*Author प्रणय प्रभात*
रंगों की दुनिया में सब से
रंगों की दुनिया में सब से
shabina. Naaz
Loading...