Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2022 · 2 min read

बाल कहानी- गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस
——‐—

आज गणतंत्र दिवस है। रेशमी और नानी आपस में बातें कर रही हैं।
रेशमी- “आज गणतंत्र दिवस है। नानी मुझे तैयार कर दो, आज मुझे विद्यालय में लड्डू मिलेगा।”
नानी- “ठीक है, आती हूँ, बिटिया! इतना शोर क्यों मचा रही हो?”
रेशमी-“बहुत देर हो गयी है, नानी! जल्दी आप मुझे परी की तरह तैयार कर दीजिए।” नानी ने रेशमी को तैयार करके कहा-
नानी- “ये देखो! अब मेरी रेशमी परी लग रही है।अभी देर नहीं हुई है, पहले नाश्ता करो और शान्त मन से आराम से विद्यालय जाओ।”
रेशमी-“नानी! आप ने ये नहीं पूछा कि आज विद्यालय में लड्डू क्यों मिलेगा ?”
नानी-“मुझे पता है रेशमी!आज गणतंत्र दिवस है। राष्ट्रीय त्योहार है।आज विद्यालय में झंडा गीत के बाद ध्वजारोहण होगा,इसके बाद राष्ट्रगान होगा, तत्पश्चात सभी बच्चों को गीत, कविता, कहानी सुनाने के बाद विद्यालय में पुरस्कार और लड्डू या कोई भी मिठाई जरुर मिलती है।”
रेशमी- “जी नानी! आपको तो सब पता है। आप प्यारी नानी हो, अब हम विद्यालय जा रहे हैं।”
नानी- “ठीक है बिटिया जाओ।”
रेशमी जल्दी से विद्यालय पहुंँची।
रेशमी-(मन में)”लगता है देर हो गयी है सब लोग आ गये हैं। हम कह रहे थे देर हो जायेगी, पर नानी बिना नाश्ते कराये मुझे कभी विद्यालय भेजती नहीं हैं।”
तभी रेशमी को देखकर शिक्षिका ने कहा–
शिक्षिका-“रेशमी! क्या सोच रही हो बेटा?आज तो तुम बहुत प्यारी लग रही हो।”
रेशमी-“धन्यवाद मैम जी!मेरी नानी ने तैयार किया है।”
शिक्षिका-“अच्छा, ये बताओं, रेशमी बेटा! आपने राष्ट्रगीत तैयार किया? आपको अभी पढ़ना है। और तुम अन्य कार्यक्रम में भी हो।
रेशमी-“जी मैम! हमने सब तैयार कर लिया, जैसा आपने बताया था, तभी तो मुझे ज्यादा लड्डू मिलेंगे, हम दो लड्डू खायेंगे और सब नानी को दे देंगे।” शिक्षिका ने कहा कि-“ठीक है”
थोड़ी देर बाद गाँव में प्रभात फेरी निकाली गई, तत्पश्चात स्कूल में सभी बच्चों ने लाइन में खड़े होकर ध्वजारोहण होते देखा और उसके तुरंत बाद राष्ट्रीय गान सम्पन्न हुआ। फिर स्वागत और राष्ट्रीय गीतों के साथ ही बच्चों के कार्यक्रम सम्पन्न हुए। अतिथि महोदय ने सभी को पुरस्कृत किया।रेशमी का गीत अच्छा होने के कारण उसे पुरुस्कार के साथ-साथ दो लड्डू अधिक मिले।
घर पहुँचकर रेशमी ने नानी से कहा- “आप कहाँ हो नानी?
नानी- “बहुत खुश लग रही है मेरी रेशमी! कैसा रहा आज का कार्यक्रम?”
रेशमी-“बहुत अच्छा ! विद्यालय में खूब सजावट थी।बहुत सुन्दर -सुन्दर कार्यक्रम हुए! हमने कई कार्यक्रमों में भाग लिया।ये देखिए नानी! हमें ज्यादा लड्डू और इनाम भी मिला है। ये सब आपके लिये है।”

शिक्षा
हमें इस कहानी से यह सीख मिलती है कि हमको अपने राष्ट्रीय पर्वों और उनके मनाने की जानकारी होनी चाहिए।

शमा परवीन बहराइच उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
1 Like · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
Neeraj Agarwal
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*कर्मफल सिद्धांत*
*कर्मफल सिद्धांत*
Shashi kala vyas
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
न  सूरत, न  शोहरत, न  नाम  आता  है
न सूरत, न शोहरत, न नाम आता है
Anil Mishra Prahari
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
Dr Archana Gupta
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
आग लगाना सीखिए ,
आग लगाना सीखिए ,
manisha
3268.*पूर्णिका*
3268.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
'लक्ष्य-1'
'लक्ष्य-1'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
गुमनाम 'बाबा'
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
कवि दीपक बवेजा
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सियासत
सियासत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उमर भर की जुदाई
उमर भर की जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
gurudeenverma198
*लो कर में नवनीत (हास्य कुंडलिया)*
*लो कर में नवनीत (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिस दिन
जिस दिन
Santosh Shrivastava
अनुगामी
अनुगामी
Davina Amar Thakral
Loading...