Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2022 · 1 min read

बारिश

आसमान से निरख धरा को
उमड़ घुमड़ घन बरस रहे ।
मानो जैसे अपने घर को
जल्दी आने को आतुर हैं ।
उनके आने की आहट पा
देखो तरुवर सब झूम रहे
धरती के अरमान भी सब
सोंधे सोंधे हो महक उठे ।
टिप टिप बूंदे है ताल बनी
हवा ने सरगम साधी है ।
खग कुल गा-गाकर नाच रहे
आंखें लख सब सुख पाती है।
मन करता आज निकल बाहर
झूमूँ गाऊँ हो मस्त मगन |
बूंदों से कर लूँ अठखेली
बचने का हो न कोई जतन ।
इतना भीगूँ इस बारिश में
सब अश्रु लवणता धुल जाए ।
आनन्द प्रकृति का तन से हो
मन में मिश्री सा घुल जाए ।

6 Likes · 2 Comments · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिन्दी दोहा बिषय-
हिन्दी दोहा बिषय- "घुटन"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
*Author प्रणय प्रभात*
मां
मां
goutam shaw
सैलाब .....
सैलाब .....
sushil sarna
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
Neelam Sharma
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
मोहब्बत
मोहब्बत
Shriyansh Gupta
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
"सफलता का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
जीने की
जीने की
Dr fauzia Naseem shad
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
कवि दीपक बवेजा
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
Sanjay ' शून्य'
मशीन कलाकार
मशीन कलाकार
Harish Chandra Pande
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
Neeraj Agarwal
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
Ravi Prakash
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...