Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

बात सीधी थी

बात सीधी थी
मगर वो समझे ही नहीं।
उसपे इल्जाम ये मुझपे
कि मुझे कहना नहीं आता!
***धीरजा शर्मा***

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dheerja Sharma
View all
You may also like:
मंदिर जाना चाहिए
मंदिर जाना चाहिए
जगदीश लववंशी
मकानों में रख लिया
मकानों में रख लिया
abhishek rajak
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
आगाह
आगाह
Shyam Sundar Subramanian
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
*Author प्रणय प्रभात*
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*आदत*
*आदत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
-------ग़ज़ल-----
-------ग़ज़ल-----
प्रीतम श्रावस्तवी
प्रकृति और तुम
प्रकृति और तुम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
Aarti sirsat
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
लौट कर वक़्त
लौट कर वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
सच तो कुछ भी न,
सच तो कुछ भी न,
Neeraj Agarwal
ढूँढ़   रहे   शमशान  यहाँ,   मृतदेह    पड़ा    भरपूर  मुरारी
ढूँढ़ रहे शमशान यहाँ, मृतदेह पड़ा भरपूर मुरारी
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नैन
नैन
TARAN VERMA
* वक्त  ही वक्त  तन में रक्त था *
* वक्त ही वक्त तन में रक्त था *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
Shweta Soni
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
नूरफातिमा खातून नूरी
यह सब कुछ
यह सब कुछ
gurudeenverma198
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
Loading...