Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2023 · 2 min read

बलिदान

एक श्वान को मै रोज सवेरे मेरे दरवाजे आकर कातर दृष्टी से कुछ बासी रोटी की चाह में इंतजार करता देखता, जो कुछ भी उसे मिलता उससे तृप्त होकर चला जाता था।
दिन भर मोहल्ले के बच्चों के साथ वह खेलता ,
और रात में मोहल्ले के चक्कर लगाकर अजनबी लोगों पर भौंकता था।
वह पूरे मोहल्ले को अपना घर समझता था। बच्चे भी उसे प्यार से मोती बुलाते थे।
उन दिनों शहर में चोरी की वारदात बढ़ गई थी।
पुलिस प्रशासन ने लोगों को चेतावनी दी थी कि किसी भी संदिग्ध व्यक्ति के बारे में तुरंत सूचना पुलिस को दें , जिससे शहर में लगातार हो रही चोरियों पर अंकुश लगाकर अपराधियों को पकड़ा जा सके ।
उस दिन मोहल्ले के रामगोपाल मास्टर जी के घर में उनके पुत्र के शिशु , राम गोपाल जी के पोते का प्रथम जन्मदिवस का समारोह था , मोहल्ले के सभी गणमान्य लोगों ने इसमें बढ़-चढ़कर भाग लेकर शिशु को आशीर्वाद दिया।
समारोह करीब रात के 10:00 बजे तक चला , तत्पश्चात् समस्त मेहमान खाना खाकर अपने घर को लौट गए।
रात के करीब 1:30 बजे मोती के जोर-जोर से भौंकने की आवाज सुनाई दी। परंतु लोगों ने पर कोई इस पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया।
परंतु करीब 2:00 बजे मोती के जोर-जोर से रोने की आवाज आने लगी, तब कुछ लोग ने आकर देखा कि मोती ने एक आदमी को पकड़ रखा है , और वह व्यक्ति मोती की पकड़ से छूटने के लिए उस पर लगातार लोहे की रॉड से वार किए जा रहा है , मोती लहूलुहान होकर भी उस व्यक्ति को अपनी गिरफ्त से छोड़ नहीं रहा है।
लोगों को शक हो गया कि हो ना हो वह शख्स कोई चोर था , जिसे मोती ने धर दबोचा था।
लोगों ने तुरंत उस आदमी को पकड़ लिया, लोगों के पकड़ते ही मोती ने अपनी गिरफ्त से उसे आजाद कर दिया।
मोहल्ले वालों ने तुरंत पुलिस को बुलाकर उस आदमी को पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस की पूछताछ में पता चला कि वह एक शातिर चोर शहर होने वाले लगातार चोरियां करने वाले गैंग का सदस्य था , जिसके पकड़े जाने से पुलिस ने उस गैंग के सभी चोरों को गिरफ्तार कर उनसे भारी मात्रा में चोरी का माल बरामद किया, और इस प्रकार शहर में होने वाली लगातार चोरियों पर नियंत्रण पा लिया।
इधर मोती पर लगातार वार होने से वह बहुत लहूलुहान हो गया था, उसे पशु डॉक्टर की भरसक कोशिश के बावजूद भी उसे बचाया ना जा सका।
मोहल्ले वालों का ह्रदय मोती के बलिदान के प्रति कृतज्ञता से भर गया।

Language: Hindi
167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
यह आज है वह कल था
यह आज है वह कल था
gurudeenverma198
केवल
केवल
Shweta Soni
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
VINOD CHAUHAN
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
😢सीधी-सीख😢
😢सीधी-सीख😢
*Author प्रणय प्रभात*
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
*आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान (कुंडलिया)*
*आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपनों की महफिल
अपनों की महफिल
Ritu Asooja
"नींद से जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
आप जब हमको दिखते हैं
आप जब हमको दिखते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"Do You Know"
शेखर सिंह
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कहां गए (कविता)
कहां गए (कविता)
Akshay patel
RAKSHA BANDHAN
RAKSHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
ढलती हुई दीवार ।
ढलती हुई दीवार ।
Manisha Manjari
24/248. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/248. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
तुझे भूलना इतना आसां नही है
तुझे भूलना इतना आसां नही है
Bhupendra Rawat
खुली किताब सी लगती हो
खुली किताब सी लगती हो
Jitendra Chhonkar
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
देशभक्ति
देशभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
Loading...