Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2023 · 1 min read

बरसात (विरह)

सब सो जाते नींद में,तब होती बरसात।
मौन अकेली भींगती,मैं तो सारी रात।।।

उर में नव रस घोलती,ये बारिश चुपचाप।
चोट जिया पर मारती, बूँदों की हर थाप।।

मन के खाली फ्रेम पर,खींच रही कुछ चित्र।
खो जाती हूँ ख्वाब में, तनहाई है मित्र।।

चहक रहा सारा जगत,मैं मुरझाई मौन।
बदन टूटता रात में,उन्हें बताए कौन।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Like · 214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
हर दिन माँ के लिए
हर दिन माँ के लिए
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
*Relish the Years*
*Relish the Years*
Poonam Matia
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
©️ दामिनी नारायण सिंह
उस चाँद की तलाश में
उस चाँद की तलाश में
Diwakar Mahto
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अब किसपे श्रृंगार करूँ
अब किसपे श्रृंगार करूँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
Ajay Kumar Vimal
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
रिश्ते प्यार के
रिश्ते प्यार के
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
जलजला, जलजला, जलजला आयेगा
जलजला, जलजला, जलजला आयेगा
gurudeenverma198
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
राष्ट्रीय गणित दिवस
राष्ट्रीय गणित दिवस
Tushar Jagawat
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
*अहं ब्रह्म अस्मि*
*अहं ब्रह्म अस्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
बुरा लगे तो मेरी बहन माफ करना
बुरा लगे तो मेरी बहन माफ करना
Rituraj shivem verma
छोटी-छोटी खुशियों से
छोटी-छोटी खुशियों से
Harminder Kaur
वो कली हम फूल थे कचनार के।
वो कली हम फूल थे कचनार के।
सत्य कुमार प्रेमी
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
2520.पूर्णिका
2520.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*प्रणय प्रभात*
आडम्बर के दौर में,
आडम्बर के दौर में,
sushil sarna
लेंगे लेंगे अधिकार हमारे
लेंगे लेंगे अधिकार हमारे
Rachana
सब की नकल की जा सकती है,
सब की नकल की जा सकती है,
Shubham Pandey (S P)
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...