Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

बरसात के दिन

बरसात के दिन करते हैं
सबसे सावधानी की मांग
बारिश से हो जाते हैं सभी
तरफ रास्ते कुछ ऊटपटांग
जगह जगह पर हो जाती
छोटे बड़े गड्ढों की भरमार
अक्सर बरसात में वाहनों का
सफर हो जाता है दुश्वार
बहुत जरूरी होने पर ही आप
कीजिए बरसात में कोई भी टूर
ताकि अनहोनी की आशंकाएं
रहें सदा आपके जीवन से दूर

Language: Hindi
191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*
*"बापू जी"*
Shashi kala vyas
याद रे
याद रे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
"क्लियोपेट्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
gurudeenverma198
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दिनकर/सूर्य
दिनकर/सूर्य
Vedha Singh
बेरोजगार
बेरोजगार
Harminder Kaur
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
*अपनी-अपनी जाति को, देते जाकर वोट (कुंडलिया)*
*अपनी-अपनी जाति को, देते जाकर वोट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
हर पल
हर पल
Davina Amar Thakral
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
कवि रमेशराज
जो अच्छा लगे उसे अच्छा कहा जाये
जो अच्छा लगे उसे अच्छा कहा जाये
ruby kumari
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
*बदलता_है_समय_एहसास_और_नजरिया*
*बदलता_है_समय_एहसास_और_नजरिया*
sudhir kumar
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
Mahima shukla
Home Sweet Home!
Home Sweet Home!
R. H. SRIDEVI
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
*प्रणय प्रभात*
News
News
बुलंद न्यूज़ news
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
Shweta Soni
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
24/250. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/250. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...