Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2024 · 1 min read

बरसात आने से पहले

पिछले नवरात्र में कहे थे
आने को पर आये नही,
चलो बरसात आने से पहले
अगर आ जाओ तो सही।

गेहूँ कट कर खलिहान
में सारे आ गये है,
गन्ने पक कर पेराई का
इंतजार कर रहे है।

सरसो सारे पियरा कर
झरने लग गये है,
कोल्हू जाने का इंतजार
ये सब करने लगे है।

बाबू की तबियत अनवरत
बिगड़ती जा रही,
अम्मा की खाँसी है कि
कभी रुकती ही नही ।

पिछले माह से बबुअन
की फीस का बकाया है,
जोहती तुम्हारी बाट है
लंबी हो चली साया है।

किसी तरह अभी तक
सब संभाल पा रही हूँ,
पर प्रियतम अब मेरे
बस का ये सब नही है।

बस आरजू है हमारी
बिना देर किये आ जाना,
निर्मेष अवांछित घटने पर
हमसे कुछ मत कहना।

निर्मेष

1 Like · 19 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
Paras Nath Jha
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
*शादी को जब हो गए, पूरे वर्ष पचास*(हास्य कुंडलिया )
*शादी को जब हो गए, पूरे वर्ष पचास*(हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
Arghyadeep Chakraborty
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
रिश्तों का बदलता स्वरूप
रिश्तों का बदलता स्वरूप
पूर्वार्थ
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
कर्मयोगी
कर्मयोगी
Aman Kumar Holy
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रेम
प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
9) “जीवन एक सफ़र”
9) “जीवन एक सफ़र”
Sapna Arora
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
कवि रमेशराज
सफलता का बीज
सफलता का बीज
Dr. Kishan tandon kranti
मैं उसे पसन्द करता हूं तो जरुरी नहीं कि वो भी मुझे पसन्द करे
मैं उसे पसन्द करता हूं तो जरुरी नहीं कि वो भी मुझे पसन्द करे
Keshav kishor Kumar
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
23/51.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/51.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■नापाक सौगात■
■नापाक सौगात■
*प्रणय प्रभात*
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
Dr MusafiR BaithA
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
क्यो नकाब लगाती
क्यो नकाब लगाती
भरत कुमार सोलंकी
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
आया जो नूर हुस्न पे
आया जो नूर हुस्न पे
हिमांशु Kulshrestha
Loading...