Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2023 · 1 min read

बरगद का दरख़्त है तू

न किया पहचान निज का,
तो बड़ा कमबख्त है तू।
तिनकों से तुलना क्या तेरी,
बरगद का दरख़्त है तू।

आज तो है कल नहीं तृण,
वायु से या जल में बहता।
जबकि कितने वर्षों तेरा,
धरा पर अस्तित्व रहता।

पीपल पाकड़ आम जामुन,
से वृहद आकार है तू।
शक्त जड़ विशाल डालें,
घना बन साकार है तू।

कितने आंधी तूफां आएं,
तू तनिक भी नहीं हिलता।
पत्ते जड़ व तना लट से,
दवा ईंधन भोज्य मिलता।

थके हारे पथिक जन का
अति सघन सी छांव है तू।
जाने कितने पशु पखेरू,
का बना नित ठाँव है तू।

गर्व से स्तर पर रहकर,
सीधा रख ऊंचा शिखर।
परख कर अस्तित्व अपना,
डटा रह बनकर प्रखर।

मनुज तू भी वट के जैसा,
सृष्टि का सिरमौर तू।
बुद्धि बल विवेक पाया,
अंतर निहित शौर्य तू।

लगा रह परमार्थ में तू,
दिया जो बहार ने।
देख कितना शुभ बनाया,
तुझे सृजनहार ने।

सतीश शर्मा सृजन, लखनऊ.

Language: Hindi
1 Like · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
" लक्ष्य सिर्फ परमात्मा ही हैं। "
Aryan Raj
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
Mohan Pandey
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
*ट्रक का ज्ञान*
*ट्रक का ज्ञान*
Dr. Priya Gupta
हे प्रभु इतना देना की
हे प्रभु इतना देना की
विकास शुक्ल
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
.......शेखर सिंह
.......शेखर सिंह
शेखर सिंह
Embers Of Regret
Embers Of Regret
Vedha Singh
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
जल प्रदूषित थल प्रदूषित वायु के दूषित चरण ( मुक्तक)
जल प्रदूषित थल प्रदूषित वायु के दूषित चरण ( मुक्तक)
Ravi Prakash
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
काँटा ...
काँटा ...
sushil sarna
Expectations
Expectations
पूर्वार्थ
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
सृजन पथ पर
सृजन पथ पर
Dr. Meenakshi Sharma
मेरी मायूस सी
मेरी मायूस सी
Dr fauzia Naseem shad
"मेरी आवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन एक संघर्ष
जीवन एक संघर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
Anamika Tiwari 'annpurna '
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*प्रणय प्रभात*
देखा तुम्हें सामने
देखा तुम्हें सामने
Harminder Kaur
Loading...