Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2018 · 1 min read

बना ले एक ही मनवा

मनवा से हारे हार है, मन के जीतन जीत।
मन से मत बूढ़े बनो, करते रहिए प्रीत।।
करते रहिए प्रीत जवानी बनी रहेगी।
आज नही तो कल, सुहानी घड़ी मिलेगी।।
दिखो सदा तुम यंग, फ़ैशन संग ढको तनवा।
इधर उधर मत झाँक, बना ले एक ही मनवा।।
✍?अरविंद राजपूत ‘कल्प’

354 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
3508.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3508.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
6
6
Davina Amar Thakral
मिरे मिसरों को ख़यालात मत समझिएगा,
मिरे मिसरों को ख़यालात मत समझिएगा,
Shwet Kumar Sinha
■ गीत / पधारो मातारानी
■ गीत / पधारो मातारानी
*प्रणय प्रभात*
"जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
मेहनत की कमाई
मेहनत की कमाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
gurudeenverma198
आई अमावस घर को आई
आई अमावस घर को आई
Suryakant Dwivedi
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
Shweta Soni
We meet some people at a stage of life when we're lost or in
We meet some people at a stage of life when we're lost or in
पूर्वार्थ
सूरज दादा
सूरज दादा
डॉ. शिव लहरी
ছায়া যুদ্ধ
ছায়া যুদ্ধ
Otteri Selvakumar
दूर भाग जाएगा ॲंधेरा
दूर भाग जाएगा ॲंधेरा
Paras Nath Jha
मां - हरवंश हृदय
मां - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
कौशल्या नंदन
कौशल्या नंदन
Sonam Puneet Dubey
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
ज़माने से मिलकर ज़माने की सहुलियत में
ज़माने से मिलकर ज़माने की सहुलियत में
शिव प्रताप लोधी
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
Akash Yadav
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पसीने वाली गाड़ी
पसीने वाली गाड़ी
Lovi Mishra
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
Phool gufran
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...