Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2023 · 1 min read

बदल गयो सांवरिया

💐श्री राधे कृष्ण भजन💐
बदल गयौ सांवरिया, बात करै ना मोते-2
राधा ने का जाल बिछायौ -2, हम तो रह गए रोते
बदल गयौ….
1】 प्रेम की गहराई कलयुग में, राधा कृष्ण बताते हैं
तन कौ प्रेम रह गयौ जग में, वो मन प्रेम जगाते हैं
सच्चा प्रेम चुनो जग वालों, कर्म करो खोटे
बदल गयौ…..
2】 सतयुग में लोगों के तन मन, चंदन जैसे निर्मल थे
द्वापुर में तन मन काले भये, लोग कष्ट से रोते थे
कलयुग में कोई कष्ट ना पाता, राधे कृष्ण मन होते
बदल गयौ……
3】 श्याम की बंसी जब-जब बजती, दुख संताप को हरती है
राधा प्यारी दुखी जनों की, खाली झोलियाँँ भर्ती है
संकट कटें मिटें सब पीरा, जो कांटे ना बोते
बदल गयौ….
लेखक:- खैम सिंह सैनी
ग्राम – गोविंदपुर, वैर
मो. नंबर 92660 34599

1 Like · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कहा चैत से फागुन ने, नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन (गीत)*
*कहा चैत से फागुन ने, नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन (गीत)*
Ravi Prakash
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
2371.पूर्णिका
2371.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रेम
प्रेम
Satish Srijan
जो उसने दर्द झेला जानता है।
जो उसने दर्द झेला जानता है।
सत्य कुमार प्रेमी
हां मैं ईश्वर हूँ ( मातृ दिवस )
हां मैं ईश्वर हूँ ( मातृ दिवस )
Raju Gajbhiye
बाल मन
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
वीरगति सैनिक
वीरगति सैनिक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"निशान"
Dr. Kishan tandon kranti
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिल में
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
पूर्वार्थ
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
कविता
कविता
Shyam Pandey
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
Madhuyanka Raj
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
gurudeenverma198
राम तुम्हारे नहीं हैं
राम तुम्हारे नहीं हैं
Harinarayan Tanha
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
Pramila sultan
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
Paras Nath Jha
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
Loading...