Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2023 · 1 min read

बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,

बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
सब सँ अपन हृदय केँ खोलि बात करू !
मुदा एतय सबलोक अपना मे व्यस्त छथि ,
सब यंत्र शिथिल पड़ल करू त की करू ?
@ परिमल

356 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
The Misfit...
The Misfit...
R. H. SRIDEVI
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
"The Power of Orange"
Manisha Manjari
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*प्रणय प्रभात*
3518.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3518.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
कांच के जैसे टूट जाते हैं रिश्ते,
कांच के जैसे टूट जाते हैं रिश्ते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सावन: मौसम- ए- इश्क़
सावन: मौसम- ए- इश्क़
Jyoti Khari
माँ
माँ
Anju
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
🌺फूल की संवेदना🌻
🌺फूल की संवेदना🌻
Dr. Vaishali Verma
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नींद
नींद
Diwakar Mahto
प्राणवल्लभा 2
प्राणवल्लभा 2
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आगे क्या !!!
आगे क्या !!!
Dr. Mahesh Kumawat
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
Jitendra kumar
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
Loading...