Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

बड़ा मन करऽता।

बड़ा मन करऽता।
दिल दम भरऽता।।
खाथी हम कहीं,
कुछ कहल ना बनऽता।।।

@जय लगन कुमार हैप्पी
बेतिया, बिहार।

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
तुम नहीं हो
तुम नहीं हो
पूर्वार्थ
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
जीवन के लक्ष्य,
जीवन के लक्ष्य,
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
Subhash Singhai
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
बहुत बातूनी है तू।
बहुत बातूनी है तू।
Buddha Prakash
सखी री आया फागुन मास
सखी री आया फागुन मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्मृतियों का सफर (23)
स्मृतियों का सफर (23)
Seema gupta,Alwar
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख़ुदी के लिए
ख़ुदी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लाइफ का कोई रिमोट नहीं होता
लाइफ का कोई रिमोट नहीं होता
शेखर सिंह
*स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय श्री राम कुमार बजाज*
*स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय श्री राम कुमार बजाज*
Ravi Prakash
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
Loading...