Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2023 · 3 min read

*बड़ा नेता,बड़ा हार (हास्य व्यंग्य)*

बड़ा नेता,बड़ा हार (हास्य व्यंग्य)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
सच पूछो तो राजनीति में जीवन का सबसे बड़ा लक्ष्य बड़े नेता के पुष्पहार में छोटे नेता का समा जाना ही है । बड़े नेता के हार का कवरेज क्षेत्र बहुत व्यापक होने के बाद भी यह जुगाड़ पर निर्भर करता है कि छोटे नेता को उसके भीतर स्थान मिले या न मिले ? कई बार इस मामले में धक्का-मुक्की करनी पड़ती है । अगर कोई शर्माएगा या संकोच करेगा तो बृहदाकार-हार से बाहर रह जाएगा। पूरा शरीर न सही केवल चेहरे को ही हार के अंदर कर लो ,लेकिन अपनी उपस्थिति हार के भीतर दर्ज करो । इसी में जीवन का सर्वोच्च सुख निहित है।
बड़ा नेता अपने आसपास धक्का-मुक्की नहीं चाहता । अतः बाहर से शालीन, सभ्य और शांत बने रहने की एक्टिंग करते रहो । बड़े नेता को स्पर्श किए बिना जितना प्रयास कर सकते हो ,हार के भीतर घुसने का करो। कल को जिले में लोग पूछेंगे कि बड़ा नेता आया और तुम कहां थे ? तो फिर अगर हार में नहीं थे तो तुम्हारा होना न होना बेकार है । अपनी सत्ता को स्थापित करने के लिए हार में घुसना अनिवार्य है । इसे जीवन-मरण का प्रश्न बनाओ और हार में घुसने का पूरा-पूरा प्रयत्न करो । अधिक से अधिक तुम्हारे साथी यही तो कहेंगे कि यह आदमी अच्छा नहीं है । लेकिन उससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा । जो हार के भीतर आ गया ,वह बड़ा-छुटभैया और जो बाहर रह गया वह छोटा-छुटभैया । अब यह तुम्हारी सामर्थ्य पर निर्भर करता है कि तुम बड़े बन पाते हो या छोटे रह जाते हो । कसरत करो और सफलता प्राप्त करो ।
आजकल पुष्पहार इतने बड़े और भारी बन रहे हैं कि उनको छह लोग लेकर आते हैं। आठ लोग हार को संभालते हैं और हार के भीतर केवल तीन लोगों के खड़े होने की जगह बनती है । जो लोग हार पकड़े हुए होते हैं अर्थात पुष्पहार को पकड़कर मंच तक लाते हैं ,उन्हें सुविधा यह हो जाती है कि वह ऐन मौके पर हार के अंदर अपना चेहरा आसानी से फिट कर लेते हैं । इसलिए अगर जुगाड़ करनी है तो हार बनवाने का ठेका खुद लो और स्वयं अपने हाथों से उसे लेकर बड़े नेता के शरीर पर पहनाने का राजनीतिक-लाभ प्राप्त करो । एक जमाना था ,जब हार गले में पहनाए जाते थे । लेकिन अब हार बड़े बनने लगे हैं। आईडिया जिसका भी हो ,उसकी अक्ल की दाद देनी पड़ेगी । अधिक से अधिक लोग नेताजी के पुष्पहार के भीतर समा जाएँ, इसके लिए फूलों के हार का आकार रोजाना बढ़ रहा है। कई लोगों का विचार है कि जितना बड़ा मंच है ,उतना बड़ा फूलों का हार होना चाहिए। लेकिन दिक्कत यह है कि उसमें बड़े नेता जी बीच में छुप जाएंगे और नजर नहीं आएंगे। इसलिए पुष्पहार का आकार एक निश्चित सीमा से बहुत ज्यादा नहीं बढ़ सकता।
कई बार हार के अंदर प्रविष्ट होने के लिए छुटभैया नेताओं में भारी धक्का-मुक्की होने लगती है । इसे देखकर बड़े नेता जी अगर दुबले-पतले हैं तो पीछे हट जाते हैं । फोटो का कार्यक्रम बिना बड़े नेता के ही निपट जाता है । फिर बाद में ध्यान आता है कि अरे ! जिनके साथ फोटो खिंचाना था ,वह तो पुष्पहार के बाहर ही रह गए । तब सम्मान सहित उनको हार के अंदर लाया जाता है ।
जो लोग राजनीति में आएँ ,उनका बाहुबली अर्थात पहलवान होना बहुत जरूरी है । यह नहीं कि सींक-सलाई शरीर है और पुष्पहार के पास आकर खड़े हो गए । ऐसे में तो चार जने धक्का देकर आपको छह फीट दूर हटा ही देंगे । राजनीति पांँव को मजबूती से थाम कर खड़े रहने की कला का नाम है । जैसे भी हो ,कोहनी से टक्कर मारो और अपना मुखमंडल पुष्पहार के भीतर ले आओ । तुम्हारी राजनीति सफल हो जाएगी।
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
"जुदा"
Dr. Kishan tandon kranti
ताजा भोजन जो मिला, समझो है वरदान (कुंडलिया)
ताजा भोजन जो मिला, समझो है वरदान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
जलपरी
जलपरी
लक्ष्मी सिंह
दूर मजदूर
दूर मजदूर
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
Tum hame  nist-ee nabut  kardo,
Tum hame nist-ee nabut kardo,
Sakshi Tripathi
माँ
माँ
The_dk_poetry
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुलन्दी शोहरत हो कितनी,
बुलन्दी शोहरत हो कितनी,
Satish Srijan
2973.*पूर्णिका*
2973.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हया
हया
sushil sarna
*मंगलकामनाऐं*
*मंगलकामनाऐं*
*Author प्रणय प्रभात*
लौटना पड़ा वहाँ से वापस
लौटना पड़ा वहाँ से वापस
gurudeenverma198
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
Dr MusafiR BaithA
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
Loading...