Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 2 min read

बच्चों को न बनने दें संकोची

आज इंटरनेट के युग में जब न बच्चे एक्टिव और स्मार्ट है, वहां कुछ बच्चों का संकोची स्वभाव अर्थात शर्मीलापन निश्चित ही उनके सर्वांगीण विकास में बाधक है। अधिकतर बच्चों में संकोच की भावना पाई जाती है बहुत कम ही ब बच्चे ऐसे होते हैं जो निःसंकोच सबसे मिलते जुलते, हंसते, खेलते ज हैं। बच्चों में संकोच की भावना का होना उनके आत्मविश्वास के अभाव को दर्शाता है, इसके पीछे उनका ‍ यह भय होता है कि कहीं उनके मुंह से कुछ गलत न निकल जाये या कहीं कोई उनकी हंसी न उड़ायें । ये ऐसे भय है जो बच्चों को संकोची बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बच्चों के संकोची स्वभाव की समस्या के समाधान के लिए व उनका आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए कुछ बातों का विशेष ध्यान रखें-
• सर्वप्रथम माता-पिता का कर्तव्य बनता है कि वह बच्चे के संकोची स्वभाव के कारणों का नकारात्मक लहजे में बात न करें। • बच्चों के साथ पर्याप्त समय व्यतीत करें।
* बच्चों को खेलने कूदने के लिए पर्याप्त समय दें।
* अपने बच्चे की किसी अन्य बच्चे से भूलकर भी तुलना न करें।
* बच्चे की क्षमतानुसार ही उनसे अपेक्षाएं रखें।
* बच्चे को उसके मन चाहे कार्य करने के लिए प्रेरित करें, इससे • उसका उत्साह बढ़ेगा।
*बच्चे आपके लिए कितना महत्व रखते हैं, इस बात का एहसास. बच्चे को अवश्य करायें।
*बच्चे को अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का पूर्ण अवसर प्रदान कराना चाहिए, संकोची स्वभाव के कारण प्रायः बच्चे अपने मन के ‘भावों को सरलता से व्यक्त नहीं कर पाते।
*बच्चों में सामाजिक परिपक्वता उत्पन्न हो इसके लिए माता-पिता को चाहिए कि वह बच्चे को समाज के महत्व के साथ रिश्तों का महत्व भी समझाएं।
* बच्चा संकोची न बने इसके लिए माता-पिता को चाहिए कि वह बच्चों के समक्ष कभी भी वाद-विवाद या लड़ाई-झगड़ा न करें ।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
14 Likes · 203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
रास्ते और राह ही तो होते है
रास्ते और राह ही तो होते है
Neeraj Agarwal
कसूर किसका
कसूर किसका
Swami Ganganiya
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
मौन
मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
2567.पूर्णिका
2567.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
Tarun Singh Pawar
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
,...ठोस व्यवहारिक नीति
,...ठोस व्यवहारिक नीति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
फितरत
फितरत
Akshay patel
जी करता है...
जी करता है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
* सड़ जी नेता हुए *
* सड़ जी नेता हुए *
Mukta Rashmi
जो समझ में आ सके ना, वो फसाना ए जहाँ हूँ
जो समझ में आ सके ना, वो फसाना ए जहाँ हूँ
Shweta Soni
फायदे का सौदा
फायदे का सौदा
ओनिका सेतिया 'अनु '
"मन की संवेदनाएं: जीवन यात्रा का परिदृश्य"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"बेटा-बेटी"
पंकज कुमार कर्ण
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
कवि रमेशराज
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...