Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2022 · 1 min read

बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।

छम छम छम छम बरसे सावन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।

पाँव पटक कर छप छप करते।
अपनी अँजुरी में जल भरते।
झूम-झूम मृदु मुस्कानों सें-
मंत्र मुग्ध हो मन को हरते।
दृश्य मनोहर परम सुहावन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।

मुग्ध हृदय है बेसुध तन-मन।
नहीं फिक्र है कोई उलझन।
कीचड़ में लथपथ होकर ये-
लगा रहे मिट्टी का उबटन।
निश्छल निर्मल अनुपम पावन ।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।

छोटी-सी जल धारा बहती।
जहाँ नाव कागज की चलती।
छोटे-छोटे मन के अंदर-
बड़ी-बड़ी आशाएँ पलती।
सुन्दर सुखकारी मनभावन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।

कुसुम सुकोमल हर्षित उपवन।
भींग रहा बारिश में बचपन ।
स्वप्न सुहाने भरे नयन में-
हँसता जीवन करता खनखन।
सुख से चमक रहा है आनन ।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

5 Likes · 3 Comments · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Sushil Pandey
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
Smriti Singh
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
दुनियाँ की भीड़ में।
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
चंदा तुम मेरे घर आना
चंदा तुम मेरे घर आना
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
भविष्य..
भविष्य..
Dr. Mulla Adam Ali
एक समय के बाद
एक समय के बाद
हिमांशु Kulshrestha
"अहसास मरता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मोबाइल (बाल कविता)
मोबाइल (बाल कविता)
Ravi Prakash
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
sudhir kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कागज की कश्ती
कागज की कश्ती
Ritu Asooja
दर्द का बस
दर्द का बस
Dr fauzia Naseem shad
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
आर.एस. 'प्रीतम'
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
2619.पूर्णिका
2619.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
Buddha Prakash
एक शेर
एक शेर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#अंतिम_उपाय
#अंतिम_उपाय
*Author प्रणय प्रभात*
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
Ravi Yadav
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
Dr Archana Gupta
Loading...