Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

बच्चे को उपहार ना दिया जाए,

बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
तो वह कुछ ही समय रोयेगा,
मगर संस्कार ना दिए जाए,
तो वह जीवन भर रोयेगा.

Author-(S.P)

530 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
सुखम् दुखम
सुखम् दुखम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
Satyaveer vaishnav
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
gurudeenverma198
गिरोहबंदी ...
गिरोहबंदी ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संभव की हदें जानने के लिए
संभव की हदें जानने के लिए
Dheerja Sharma
हरसिंगार
हरसिंगार
Shweta Soni
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
Seema gupta,Alwar
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
कान्हा
कान्हा
Mamta Rani
"निशान"
Dr. Kishan tandon kranti
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
दिखाना ज़रूरी नहीं
दिखाना ज़रूरी नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रक्तदान पर कुंडलिया
रक्तदान पर कुंडलिया
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पतझड़
पतझड़
ओसमणी साहू 'ओश'
*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
Ravi Prakash
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
आर.एस. 'प्रीतम'
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
"पूनम का चांद"
Ekta chitrangini
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
2537.पूर्णिका
2537.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...