Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2024 · 1 min read

बघेली कविता –

बघेली कविता –

करिन खूब घोटाला दादू।
चरित्र बहुत है काला दादू।
गनी गरीब के हींसा माहीं,
मार दिहिन ही ताला दादू।
उईं अंग्रेजी झटक रहे हें,
डार के नटई माला दादू।
तुम्‍हरे घरे मा होई हीटर,
हमरे इहाँ है पाला दादू।
अबै चुनाव के बेरा आई,
मरा है मनई उसाला दादू।

✒ प्रियांशु कुशवाहा ‘प्रिय’

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिल में रह जाते हैं
दिल में रह जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
वक्त निकल जाने के बाद.....
वक्त निकल जाने के बाद.....
ओसमणी साहू 'ओश'
जब तू मिलती है
जब तू मिलती है
gurudeenverma198
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
अंसार एटवी
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
संज्ञा
संज्ञा
पंकज कुमार कर्ण
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
Vishal babu (vishu)
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
रहते हैं बूढ़े जहाँ ,घर के शिखर-समान(कुंडलिया)
रहते हैं बूढ़े जहाँ ,घर के शिखर-समान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
#शारदीय_नवरात्रि
#शारदीय_नवरात्रि
*Author प्रणय प्रभात*
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
वृक्षों की सेवा करो, मिलता पुन्य महान।
वृक्षों की सेवा करो, मिलता पुन्य महान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बम बम भोले
बम बम भोले
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
Ram Krishan Rastogi
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
कौन किसकी कहानी सुनाता है
कौन किसकी कहानी सुनाता है
Manoj Mahato
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
लक्ष्मी सिंह
Loading...