Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2023 · 1 min read

**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**

**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
*******************************

बकरा बन पल में मै हलाल हो गया,
नाजुक सा दिल उन पर दयाल हो गया।

वो आये थे यूँ पास ख़ास जान कर,
पल में यारों देखो कमाल हो गया।

जां से प्यारा वो यार कब बदल गया,
वैरागी मन जाने क्यों दलाल हो गया।

लट्ठे में लिपटा थान छंट कट गया,
पुरा था जो टुकड़ों में रुमाल हो गया।

मनसीरत कुछ दिन से उदास था बड़ा,
छोटी-छोटी बातों से बवाल हो गया।
******************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
*सोना-चॉंदी कह रहे, जो अक्षय भंडार (कुंडलिया)*
*सोना-चॉंदी कह रहे, जो अक्षय भंडार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर
Shweta Soni
...........
...........
शेखर सिंह
बलराम विवाह
बलराम विवाह
Rekha Drolia
दुनिया की कोई दौलत
दुनिया की कोई दौलत
Dr fauzia Naseem shad
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
ज़िंदगी का फ़लसफ़ा
ज़िंदगी का फ़लसफ़ा
Dr. Rajeev Jain
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
माया मोह के दलदल से
माया मोह के दलदल से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बँटवारा
बँटवारा
Shriyansh Gupta
संक्रांति
संक्रांति
Harish Chandra Pande
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
इंसानियत अभी जिंदा है
इंसानियत अभी जिंदा है
Sonam Puneet Dubey
2947.*पूर्णिका*
2947.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
की तरह
की तरह
Neelam Sharma
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
संजय कुमार संजू
"कंजूस"
Dr. Kishan tandon kranti
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
Pramila sultan
चार लाइनर विधा मुक्तक
चार लाइनर विधा मुक्तक
Mahender Singh
Loading...