Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

फोन:-एक श्रृंगार

फोन:-एक श्रृंगार
अब कहां दिखती है बच्चों के हाथों में,
क्रिकेट का एक किलोग्राम का बल्ला,,
या पुस्तकों से भरा झोला,,,
अब तो बच्चों के हाथों में दिखता है,,,,
मात्र 150 ग्राम का फोन,,,,,,
उसी में उसकी सारी पढ़ाई,,उसी में उसका सारा खेल होता है,,,,,,,
अब बच्चे नहीं मिलते एक दूसरे से जी,अब उनका आपस में कहां मेल होता है।।

अब वो दिन पुराने हो गए,जब महबूब की एक झलक पाने के लिए,,
दिन भर उसका चक्कर लगाया जाता था,अगर ख़ुद से बात ना बन पाती,,,,,,
तो गलियों में मौज़ूद छोटे बच्चों को,इस काम पर लगाया जाता था,,,,,,
अब इतना समय किसके पास है,,अब तो फोन हर हाथ के पास है,,,,,,
इश्क़ क्या है,,,,,,,इश्क़ किससे है,,,,,,,
ये शायद उससे ज़्यादा,,,,,,,उसके फोन को अहसास है।।

आज हर किसी को,फोन से प्यार है,,
फोन ही हाथों का श्रृंगार है।।

153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
Dheerja Sharma
2333.पूर्णिका
2333.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
*ज्ञानी (बाल कविता)*
*ज्ञानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
"जवाब"
Dr. Kishan tandon kranti
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल _ मिल गयी क्यूँ इस क़दर तनहाईयाँ ।
ग़ज़ल _ मिल गयी क्यूँ इस क़दर तनहाईयाँ ।
Neelofar Khan
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
Today's Thought
Today's Thought
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सदद्विचार
सदद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
★ किताबें दीपक की★
★ किताबें दीपक की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
🙂
🙂
Sukoon
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
Loading...