Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2024 · 1 min read

फूलों से हँसना सीखें🌹

फूलों से हँसना सीखें🌹
कीचड़ में उगते कमल प्रसून
पंखुड़ियों के चीर फाड़ सड़न तन
गम विहीन खुशी सज शोभा देते
कहीं बनते बालों की गजरा
दाम्पत्य मिलन की वरमाला
कहीं देवी देवों की माला
पूजा पाठ साधना आराधना
लड़ी पिरोई पूजा की थाली
फूलों की जिन्दगी एक सफ़र
प्रसून जीवन जीता गरिमा से
क्योंकि जीवन एक सफ़र अपनी
सफ़र जिन्दगी मुश्किल नही
जब धर्म कर्म चरित्र सबल हो
सफ़र पग पग ठोकर देता
पर ठोकरों की नयनी सीख से
आगे सफल सफ़र पूरा करना
इसलिए फूलों से नित हंसना सीखें
भौरों से नित गाना पगपग जीवन जीना सीखें
टी.पी. तरुण

109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
धोखा
धोखा
Sanjay ' शून्य'
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
shabina. Naaz
■ कविता-
■ कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
इंसानियत
इंसानियत
Neeraj Agarwal
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Srishty Bansal
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
' समय का महत्व '
' समय का महत्व '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
******गणेश-चतुर्थी*******
******गणेश-चतुर्थी*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
पूर्वार्थ
" आज भी है "
Aarti sirsat
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
💐प्रेम कौतुक-448💐
💐प्रेम कौतुक-448💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
Jyoti Khari
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
पंकज कुमार कर्ण
3134.*पूर्णिका*
3134.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
बरसात
बरसात
Bodhisatva kastooriya
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at b
Nupur Pathak
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
gurudeenverma198
Loading...