Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2023 · 1 min read

फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है

फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
हर शाख पर गम छोड़ा है
कुरेद कर जा चुके हैं जख्म मेरे
और वक्त का मरहम छोड़ा है
क्या याद वो रखेंगे, सब भूलने को बोलकर
जिसने मुझे कल छोड़ा है

1 Like · 3 Comments · 484 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
*औषधि (बाल कविता)*
*औषधि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
अधूरी सी ज़िंदगी   ....
अधूरी सी ज़िंदगी ....
sushil sarna
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
बुंदेली दोहा - सुड़ी
बुंदेली दोहा - सुड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
Rj Anand Prajapati
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
मुझ को इतना बता दे,
मुझ को इतना बता दे,
Shutisha Rajput
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
तेज़
तेज़
Sanjay ' शून्य'
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
DrLakshman Jha Parimal
Dear me
Dear me
पूर्वार्थ
"स्कूल चलो अभियान"
Dushyant Kumar
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
सरस्वती वंदना-5
सरस्वती वंदना-5
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
Neerja Sharma
■ बात सब पर लागू। नेताओं पर भी।।
■ बात सब पर लागू। नेताओं पर भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
ग़रीबी भरे बाजार मे पुरुष को नंगा कर देती है
ग़रीबी भरे बाजार मे पुरुष को नंगा कर देती है
शेखर सिंह
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
बरसात
बरसात
surenderpal vaidya
2499.पूर्णिका
2499.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"अनाज"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...