Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2024 · 1 min read

फितरत आपकी जैसी भी हो

फितरत आपकी जैसी भी हो
सोच अच्छी होनी चाहिए
बुराई लाख करो
मगर अच्छाई होनी चाहिए

1 Like · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
✒️कलम की अभिलाषा✒️
✒️कलम की अभिलाषा✒️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
*अहंकार *
*अहंकार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
यह कैसी खामोशी है
यह कैसी खामोशी है
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
* छलक रहा घट *
* छलक रहा घट *
surenderpal vaidya
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
आएंगे तो मोदी ही
आएंगे तो मोदी ही
Sanjay ' शून्य'
नया साल लेके आए
नया साल लेके आए
Dr fauzia Naseem shad
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
मांगने से रोशनी मिलेगी ना कभी
मांगने से रोशनी मिलेगी ना कभी
Slok maurya "umang"
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
कर्म का फल
कर्म का फल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
World stroke day
World stroke day
Tushar Jagawat
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
"रंग और पतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
सारे निशां मिटा देते हैं।
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
3072.*पूर्णिका*
3072.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...