Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

प्रेरणा

प्रेरणा

“पापा, पापा, मैं आजकल बहुत सुंदर लगने लगी हूँ न।” पाँच वर्षीया बेटी ने बहुत ही भोलेपन से कहा।
“हाँ बेटा, लेकिन आपको ऐसा क्यों लगता है ?” पिताजी ने भी उससे वैसे ही भोलेपन से पूछ लिया।
“मम्मी मुझे खाना खिलाते और नहलाते समय अक्सर बोलती रहती हैं। कल तो हमारी टीचर जी भी बोल रही थीं।” बेटी ने कहा।
“हाँ बेटा, आप आजकल बहुत सुंदर लगने लगी हैं। क्योंकि आजकल आप रोज दाल-चावल और रोटी-सब्जी खाने लगी हैं, रोज नहाती भी हैं। इसलिए सुंदर होती जा रही हैं।” पापा ने प्यार से कहा।
“हाँ पापा, आपको पता है, मैं आजकल बहुत समझदार भी हो गई हूँ।” बेटी आज बहुत आत्ममुग्ध लग रही थी।
“अच्छा, आपको कैसे पता चला कि आजकल आप बहुत समझदार भी हो गई हैं ?” पिताजी ने पूछा।
“दादाजी बोल रहे थे, दादी माँ भी कहती हैं।” बच्ची बोली।
बेटी की बातें सुनकर पिताजी को हँसी आ रही थी, परंतु उन्होंने अपनी हँसी को रोकते हुए बच्ची को प्रेरित करने के उद्देश्य से कहा, “हाँ बेटा, आजकल आप स्कूल जाती हैं न। ट्यूशन भी जाती हैं, इसलिए समझदार होती जा रही हैं।”
“हाँ पापा, मैं बहुत सुंदर बनूँगी और समझदार भी।” बेटी स्कूल बैग से पुस्तक निकालते हुए बोली।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पीते हैं आओ चलें , चलकर कप-भर चाय (कुंडलिया)
पीते हैं आओ चलें , चलकर कप-भर चाय (कुंडलिया)
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-521💐
💐प्रेम कौतुक-521💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
gurudeenverma198
#अद्भुत_संस्मरण
#अद्भुत_संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
कुण्डलिया
कुण्डलिया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शिक्षा दान
शिक्षा दान
Paras Nath Jha
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
*ऐसी हो दिवाली*
*ऐसी हो दिवाली*
Dushyant Kumar
मित्रो नमस्कार!
मित्रो नमस्कार!
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ....
देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
बीते हुए दिन बचपन के
बीते हुए दिन बचपन के
Dr.Pratibha Prakash
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हवाएँ
हवाएँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
एहसास
एहसास
Vandna thakur
विचार
विचार
Godambari Negi
Loading...