Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2024 · 1 min read

******** प्रेरणा-गीत *******

******** प्रेरणा-गीत *******
*************************

पंछी बन कर अंबर छा जाओ,
मुश्किलों में कभी मत घबराओ।

आगे कुआँ चाहे पीछे हो खाई,
साथ न दे चाहे खुद की परछाई,
पथ पर पग धर बढ़ते ही जाओ।
पंछी बन कर अंबर छा जाओ।

राह में पर्वत या भारी पत्थर हो,
नंगे पैर तले कंकर ही कंकर हों,
हिम्मत ना हारो कदम बढ़ाओ।
पंछी बन कर अंबर छा जाओ।

रात अँधेरी पर सूरज निकलेगा,
कोशिश से ही तो हल निकलेगा,
मार उड़ारी हर मंजिल पाओ।
पंछी बन कर अंबर छा जाओ।

मनसीरत मन पर कर लो काबू,
अंग-संग हर पल होंगे केतु राहू,
जुगनू बन कर प्रकाश फैलाओ।
पंछी बन कर अंबर छा जाओ।

पंछी बन कर अंबर छा जाओ।
मुश्किलों मे कभी मत घबराओ।
*************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*आवारा या पालतू, कुत्ते सब खूॅंखार (कुंडलिया)*
*आवारा या पालतू, कुत्ते सब खूॅंखार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बथुवे जैसी लड़कियाँ /  ऋतु राज (पूरी कविता...)
बथुवे जैसी लड़कियाँ / ऋतु राज (पूरी कविता...)
Rituraj shivem verma
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
यह आखिरी खत है हमारा
यह आखिरी खत है हमारा
gurudeenverma198
गंगा की जलधार
गंगा की जलधार
surenderpal vaidya
*
*"सदभावना टूटे हृदय को जोड़ती है"*
Shashi kala vyas
धैर्य और साहस
धैर्य और साहस
ओंकार मिश्र
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
हमारे बुज़ुर्ग अनमोल हैं ,
हमारे बुज़ुर्ग अनमोल हैं ,
Neelofar Khan
सफर
सफर
Ritu Asooja
याद रखते अगर दुआओ में
याद रखते अगर दुआओ में
Dr fauzia Naseem shad
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शायरी
शायरी
Sandeep Thakur
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिवाली का संकल्प
दिवाली का संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिकाऊ मीडिया को
बिकाऊ मीडिया को
*प्रणय प्रभात*
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
विकास शुक्ल
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
2556.पूर्णिका
2556.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इंसान भीतर से यदि रिक्त हो
इंसान भीतर से यदि रिक्त हो
ruby kumari
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
*क्या देखते हो*
*क्या देखते हो*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...