Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2023 · 1 min read

प्रेम की बंसी बजे

प्रेम की बंसी बजे
प्यार सबको हम करें
मिलके हम सब रहें
सब की पूजा हम करें@ परिमल

370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Phoolo ki wo shatir  kaliya
Phoolo ki wo shatir kaliya
Sakshi Tripathi
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
पूर्वार्थ
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संयुक्त परिवार
संयुक्त परिवार
विजय कुमार अग्रवाल
दिल तमन्ना कोई
दिल तमन्ना कोई
Dr fauzia Naseem shad
चाँदनी .....
चाँदनी .....
sushil sarna
"गजब के नजारे"
Dr. Kishan tandon kranti
■ समझ का अकाल
■ समझ का अकाल
*Author प्रणय प्रभात*
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*बीमारी जिसको हुई, उसका बंटाधार (कुंडलिया)*
*बीमारी जिसको हुई, उसका बंटाधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
Atul "Krishn"
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
पल भर की खुशी में गम
पल भर की खुशी में गम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
gurudeenverma198
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD CHAUHAN
.......,,,
.......,,,
शेखर सिंह
कविता
कविता
Shiva Awasthi
संगीत........... जीवन हैं
संगीत........... जीवन हैं
Neeraj Agarwal
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
Manisha Manjari
Loading...