Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

प्रिये ! मैं गाता रहूंगा…

यदि इशारे हों तुम्हारे, प्रिये ! मैं गाता रहूंगा.
प्रेम-पथ का पथिक हूँ मैं ,
प्रेम हो साकार तुम.
मुझ अकिंचन को हमेशा ,
बांटती हो प्यार तुम.
पात्र लेकर रिक्त ,द्वारे नित्य ही आता रहूंगा.
सरस है जीवन तुम्हीं से,
हर दिवस मधुमास है.
रात का हर पल,
तुम्हारे प्रेम का ही रास है.
बेणु का हर सुर मधुरतम तुम्हीं से पाता रहूंगा.
खिलेंगे जब तक
तुम्हारे युगल नयनों में कमल.
तभी तक सुखमय रहेंगे,
ज़िन्दगी के चार पल.
मैं मधुप हर पंखुड़ी पर बैठ,मुस्काता रहूंगा.
प्रेम से जीवन मेरा,
तुमने संवारा जिस तरह.
मैं तुम्हें प्रतिदन इसका,
दे सकूंगा किस तरह.
नित्य बलिहारी तुम्हारे प्रेम पर जाता रहूंगा.
— त्रिलोक सिंह ठकुरेला

1 Like · 2 Comments · 155 Views
You may also like:
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
ईमानदारी
AMRESH KUMAR VERMA
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
"अशांत" शेखर
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
दो पल मोहब्बत
श्री रमण
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
परेशां हूं बहुत।
Taj Mohammad
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Love Heart
Buddha Prakash
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जरी ही...!
"अशांत" शेखर
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...