Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

” प्रिये की प्रतीक्षा “

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल “
===================
जरा सा
देख लो मुझको
मैं कब से
राह तकता हूँ !
खड़ा हूँ
तेरे दर पर ही
जन्म से
आस रखता हूँ !!
ना जाओ
रूठ कर मुझसे
न जी
पाऊँगा मैं तुम बिन
मेरा तुम
हाल मत पुछो
नहीं कटते
हमारे दिन
चले आओ
जहाँ हो तुम
मुझे तुम
याद आते हो
करो ना
बेरुखी मुझसे
कहो तुम
क्यूँ सताते हो
शिकायत थी
तुम्हें मुझसे
कभी ना
सँग रहता हूँ
अभी मैं
दर पे आया हूँ
नहीं जाऊंगा
कहता हूँ
रहेंगे सँग
हम दोनों
मिलन के
गीत गाएँगे
नहीं बिछुड़ेंगे
जीवन में
सदा सँग
में बिताएँगे
जरा सा
देख लो मुझको
मैं कब से
राह तकता हूँ !
खड़ा हूँ
तेरे दर पर ही
जन्म से
आस रखता हूँ !!
=======================
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल “
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस ० पी ० कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
15.02.2024.

Language: Hindi
Tag: गीत
86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
पुस्तक
पुस्तक
Sangeeta Beniwal
आईना बोला मुझसे
आईना बोला मुझसे
Kanchan Advaita
सूरज सा उगता भविष्य
सूरज सा उगता भविष्य
Harminder Kaur
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
शेखर सिंह
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"मन बावरा"
Dr. Kishan tandon kranti
#इस_साल
#इस_साल
*Author प्रणय प्रभात*
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
Ravi Prakash
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
जिंदगी एक किराये का घर है।
जिंदगी एक किराये का घर है।
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मां
मां
goutam shaw
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हमारी वफा
हमारी वफा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
शेयर
शेयर
rekha mohan
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
gurudeenverma198
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
घर नही है गांव में
घर नही है गांव में
Priya Maithil
आ बढ़ चलें मंजिल की ओर....!
आ बढ़ चलें मंजिल की ओर....!
VEDANTA PATEL
2728.*पूर्णिका*
2728.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
असली नकली
असली नकली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
दिल की गलियों में कभी खास हुआ करते थे।
दिल की गलियों में कभी खास हुआ करते थे।
Phool gufran
हो भासा विग्यानी।
हो भासा विग्यानी।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...