Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2023 · 2 min read

प्रयास

अपने अस्तित्व की पहचान का प्रयास भी करते रहना ।
केवल जीवित रहने के लिए शाद न कभी जीवित रहना ।।
निस्संदेह इंसान के जीवन में प्रयास उतना ही महत्व रखता है जितनी कि सफलता। प्रयास के अभाव में सफलता पाने की कल्पना करना भी व्यर्थ है और ये सफलता तभी प्राप्त होती है जब हम अपने मन में दृढ़ निश्चय के साथ अपने लक्ष्य पर नज़र रखते हुए पूरी ईमानदारी के साथ निरन्तर प्रयास करते हैं, इसके साथ ही हमें यह बात भी स्मरण रखनी चाहिए कि सफलता केवल हमें थोड़े से प्रयास करने से प्राप्त नहीं होती बल्कि उसके लिए हमें कठोर परिश्रम भी करना पड़ता है और बहुत धैर्य के साथ उस परिश्रम के परिणाम का इन्तज़ार भी करना पड़ता है ,धैर्य की आवश्यकता इसलिए होती है कि बहुत से लोग थोड़े से प्रयास के उपरांत ही अपना धैर्य खो बैठते है जिसके लिए वह कभी दूसरों पर दोषारोपण करतें हैं या फिर भाग्य को कोसते हैं, हालांकि ये सारे लक्षण कमज़ोर लोगों के होते हैं ऐसे लोग जिन्हें खुद पर विश्वास नहीं होता जबकि भूल जाते हैं कि असफलता प्रयासों में की गई कमी के कारण ही मिलती है अगर आप अपने मन में ठान ले तो क्या यह नामुमकिन होगा कि आपको सफलता न मिले, बस आवश्यकता तो केवल आपके उस प्रयास की है जिसमें असफलता मिलने की कोई गुंजाइश ही न हो।
यह बात सदैव स्मरण रखें कि आपकी मेहनत और आपकी कोशिशें (प्रयास) कभी व्यर्थ नहीं जाती, विलम्ब से सही लेकिन उसका सुखद परिणाम मिलता अवश्य है, लेकिन इसके साथ ही समय-समय पर अपनी योग्यताओं,क्षमताओं और अपने प्रयासों का निरीक्षण भी करते रहना जहां आपके लक्ष्य प्राप्ति को एक नई दिशा प्रदान करेगा वहीं आपको आपकी कमियों से भी परिचित करायेगा बस इस सबके साथ आपको अपनी सोच सदैव सकारात्मक रखनी होगी फिर आपको आपकी सफलता प्राप्ति से कोई नहीं रोक सकता, बस एक प्रयास सच्चे मन से करके तो देखिए परिणाम आपके समक्ष होगा।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
8 Likes · 423 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
"संसद और सेंगोल"
*Author प्रणय प्रभात*
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
Manisha Manjari
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"फेड्डल और अव्वल"
Dr. Kishan tandon kranti
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
विश्वास की मंजिल
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
2754. *पूर्णिका*
2754. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
# महुआ के फूल ......
# महुआ के फूल ......
Chinta netam " मन "
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
कवि रमेशराज
सियाचिनी सैनिक
सियाचिनी सैनिक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
Shweta Soni
ज़िंदगी को यादगार बनाएं
ज़िंदगी को यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"सफ़ीना हूँ तुझे मंज़िल दिखाऊँगा मिरे 'प्रीतम'
आर.एस. 'प्रीतम'
पुरुष को एक ऐसी प्रेमिका की चाह होती है!
पुरुष को एक ऐसी प्रेमिका की चाह होती है!
पूर्वार्थ
***
*** " चौराहे पर...!!! "
VEDANTA PATEL
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...