Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

प्रदूषण मुक्त हो भारत सुमन मुस्कान खिल जाए

लगाओ पेड़ धरती पर गगन सी छाँव मिल जाए
यहाँ फिर देख हरियाली हमारा झूम दिल जाए
भँवर भी गुनगुनायें पक्षियों की चहचहाहट हो
प्रदूषण मुक्त हो भारत सुमन मुस्कान खिल जाए

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
675 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
'हिंदी'
'हिंदी'
पंकज कुमार कर्ण
हिंदी
हिंदी
Mamta Rani
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी इबादत
मेरी इबादत
umesh mehra
यह ज़मीं है सबका बसेरा
यह ज़मीं है सबका बसेरा
gurudeenverma198
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त गर साथ देता
वक्त गर साथ देता
VINOD CHAUHAN
गोपी-विरह
गोपी-विरह
Shekhar Chandra Mitra
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐प्रेम कौतुक-406💐
💐प्रेम कौतुक-406💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
RAKSHA BANDHAN
RAKSHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
नेताम आर सी
जिज्ञासा और प्रयोग
जिज्ञासा और प्रयोग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
मुझे महसूस हो जाते
मुझे महसूस हो जाते
Dr fauzia Naseem shad
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
ख़ामोशी
ख़ामोशी
कवि अनिल कुमार पँचोली
भारत रत्न डॉ. बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर
भारत रत्न डॉ. बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर
KEVAL_MEGHWANSHI
जिंदगी का सवेरा
जिंदगी का सवेरा
Dr. Man Mohan Krishna
"मेरी नयी स्कूटी"
Dr Meenu Poonia
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
Phool gufran
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
DrLakshman Jha Parimal
Loading...