Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2018 · 1 min read

प्रदर्शनी

लघु कथा-प्रदर्शनी
अख़बार पढ़ते पढ़ते माँ स्तब्ध हो बैठ गई।पिताजी समझ गए कि उन्होंने अवश्य ही मानवता को शर्मसार करती कोई खबर पढ़ ली है।वे बोले मनोरमा रेप और हत्या तो आजकल आम खबर है, कितनी बार कहा है तुम्हें ऐसी खबरें मत पढ़ा करो।माँ की आँखे नम थीं, सजल आँखों से वे बोलीं- नहीं जी! आज मन बहुत चिंतित हो रहा है ये सोचकर कि ईश्वर की सबसे सुंदर रचना मानव इतना नृशंश कैसे बन गया, क्या हमारी संस्कृति संस्कार इतने कमज़ोर हो गए हैं कि स्वलाभ के लिए हम कोई भी सीमा लाँघ सकते हैं। सही कह रहें हैं आप मैं रेप और हत्या की ख़बर से ही दुखी हूँ, जीवनदायनी माँ धरती और नदियों का बलात्कार ही तो हो रहा है।हर रोज़ नित नई प्रदर्शनी सी लगती है पर्यावरण संरक्षण के तहत नदियों को स्वच्छ रखने एवं धरती को प्रदूषण मुक्त करने के नए नए उपाय सुझाए जाते हैं,अखबारों, टीवी,सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर सुझाव दिए जाते हैं,स्कूली बच्चे तक रैली निकालते हैं पर हम लोगों का व्यवहार किसी प्रदर्शनी में रखी तस्वीरों की तरह हो गया है, जो आकार और रंग ले लिया उसी में फ्रेम होकर बैठ गए है।
नीलम शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
हां मैं उत्तर प्रदेश हूं,
हां मैं उत्तर प्रदेश हूं,
Anand Kumar
*समान नागरिक संहिता गीत*
*समान नागरिक संहिता गीत*
Ravi Prakash
■ मेरे विचार से...
■ मेरे विचार से...
*प्रणय प्रभात*
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Chahat
क्यों अब हम नए बन जाए?
क्यों अब हम नए बन जाए?
डॉ० रोहित कौशिक
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुनती हूँ
सुनती हूँ
Shweta Soni
प्यारा बंधन प्रेम का
प्यारा बंधन प्रेम का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
जनता के हिस्से सिर्फ हलाहल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मंत्र की ताकत
मंत्र की ताकत
Rakesh Bahanwal
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मोहब्बत बनी आफत
मोहब्बत बनी आफत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
गुमनाम 'बाबा'
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वैनिटी बैग
वैनिटी बैग
Awadhesh Singh
आ जाये मधुमास प्रिय
आ जाये मधुमास प्रिय
Satish Srijan
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
प्रेम क्या है...
प्रेम क्या है...
हिमांशु Kulshrestha
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
निकलती हैं तदबीरें
निकलती हैं तदबीरें
Dr fauzia Naseem shad
Loading...