Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2018 · 1 min read

प्रतिभा शाली

जिसकी बुद्धि प्रखर होती है,वही व्यक्ति मेधावी होता,
मेधावी ही आगे बढ़ कर, प्रज्ञावान प्रभावी होता l
अगर विवेकी बनना है तो, बस सत्संग सदा आवश्यक,
गुणी, पारखी और विवेकी, वह ही प्रतिभा शाली होता l

Language: Hindi
610 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
Indu Singh
तुम्हें प्यार करते हैं
तुम्हें प्यार करते हैं
Mukesh Kumar Sonkar
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
Vijay Nagar
कान्हा को समर्पित गीतिका
कान्हा को समर्पित गीतिका "मोर पखा सर पर सजे"
अटल मुरादाबादी(ओज व व्यंग्य )
सिय का जन्म उदार / माता सीता को समर्पित नवगीत
सिय का जन्म उदार / माता सीता को समर्पित नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रात क्या है?
रात क्या है?
Astuti Kumari
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
Tarun Garg
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
gurudeenverma198
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
"सेवा का क्षेत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
मईया एक सहारा
मईया एक सहारा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गंगा- सेवा के दस दिन (नौंवां दिन)
गंगा- सेवा के दस दिन (नौंवां दिन)
Kaushal Kishor Bhatt
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
"रूढ़िवादिता की सोच"
Dr Meenu Poonia
गजल
गजल
Punam Pande
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
Blac is dark
Blac is dark
Neeraj Agarwal
लो फिर गर्मी लौट आई है
लो फिर गर्मी लौट आई है
VINOD CHAUHAN
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
■ लिख दिया है ताकि सनद रहे और वक़्त-ए-ज़रूरत काम आए।
■ लिख दिया है ताकि सनद रहे और वक़्त-ए-ज़रूरत काम आए।
*प्रणय प्रभात*
टूटने का मर्म
टूटने का मर्म
Surinder blackpen
तलवारें निकली है तो फिर चल जाने दो।
तलवारें निकली है तो फिर चल जाने दो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
उन पुरानी किताबों में
उन पुरानी किताबों में
Otteri Selvakumar
पीठ के नीचे. . . .
पीठ के नीचे. . . .
sushil sarna
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
Loading...