Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2023 · 3 min read

प्रकृति में संगीत

प्रकृति में संगीत
*************
संगीत का अभिप्राय प्राय: वाद्य यंत्रों से लगाया जाता है, जिनके द्वारा एक प्रकार की मधुर गूंज पैदा होती है । तबला, बाजा ,वीणा बाँसुरी आदि न जाने कितने ही ऐसे उपकरण हैं जिनका आविष्कार हुआ है और जिनको एक विशिष्ट पद्धति से बजाने पर उनसे एक लय निकलती है, जिसे हम संगीत कहते हैं।
इस तरह संगीत की परिभाषा यह हुई कि किसी प्रकार से कोई मधुर गूंज या मधुर लय एक क्रम में अगर सुनाई पड़ रही है या उत्पन्न हो रही है, तो हम उसको संगीत कहते हैं। पता नहीं कब मनुष्य ने संगीत की खोज की होगी । कब उसके दिमाग में तबला बाजा ढोलक आदि कौंधे होंगे । कब उसको लगा होगा कि एक विशेष प्रकार की वस्तु पर अगर हम एक विशेष प्रकार से चोट मारेंगे, तो वह वस्तु एक विशेष प्रकार की ध्वनि उत्पन्न करेगी । इसी से तबले , ढोलक का आविष्कार हुआ। यह भी विचार हुआ होगा कि अगर हम उस में खिंचाव पैदा करें और तब उस पर थाप दें तो ध्वनि की गूंज और अधिक सुंदर और अधिक प्रभावी होगी।
बांसुरी को देखिए ! कितना सुंदर संगीत का साधन मनुष्य ने बना लिया । न जाने इतिहास के किस दौर में किसके दिमाग में यह आया कि एक बांस जैसी छोटी सी वस्तु में अगर हम कुछ छेद कर दें और उसमें फूंक मारें तो उससे भी संगीत पैदा हो जाएगा। फूंक मारने का काम चूल्हा जलाने के लिए प्रयोग में आता था, लेकिन उस फूंक से संगीत पैदा नहीं होता था। संगीत वातावरण में होता है और संगीत तब पैदा होता है जब उसके साथ मधुर ध्वनि हो। शोर को हम संगीत नहीं कहते। कर्कश आवाज को भी संगीत नहीं कहते।
संगीत में दो बातें जरूरी हैं। पहली मधुरता और दूसरी उस मधुरता को बार-बार दोहराना । उस मधुरता को बार-बार दोहराने में भी कई बार जब हम नए-नए प्रयोग करते हैं, तब उससे वाद्ययंत्र बनते हैं।
आपने कभी बारिश में बूंदों को धरती पर गिरते हुए देखा है ? उसे गौर से सुनिए! वह अपने आप में संगीत पैदा करती हैं। कितना सुंदर दृश्य होता है …बूंदे हल्के हल्के हल्के टप टप टप करते हुए धीरे-धीरे, आप भी सुनिए , एक विशेष अंतराल में आसमान से धरती पर गिरती हैं , इसी को संगीत कहते हैं ।
फिर बारिश थोड़ा तेज होती है। उसकी अपनी लय होती है।…. और घनघोर वर्षा ! उसकी तो कुछ ना पूछो ! मनुष्य के जीवन को मधुरता से भर देती है ।
जीवन में और प्रकृति में संगीत चारों ओर फैला हुआ है। केवल झरना गिरता है, तभी संगीत नहीं होता । जब नदी बहती है, तब उसके बहने में भी आप सुनो तो संगीत बहता है। हवा चलती है तो पेड़ संगीत उत्पन्न करते हैं। पशु पक्षी बोलते हैं तो उनमें संगीत पैदा होता है ।कौवों की कांव-कांव भले ही सबको संगीत न लगे, लेकिन कोयल की कूक शायद सभी को संगीत की दुनिया में ले जाएगी।
मनुष्यों में अनेक स्त्री पुरुष बहुत सुंदर आवाज के मालिक होते हैं। वह बोलते हैं तो संगीत की मधुर ध्वनि दूर-दूर तक गूंज पैदा करती है ।
सच पूछो तो हमारे शरीर के भीतर जो हृदय की धड़कन है , वह भी किसी वाद्य यंत्र से उत्पन्न संगीत से कम नहीं है । वह मधुरता और अनुशासन के साथ जब धड़कता है ,तो पूरे शरीर के भीतर संगीत की मधुर ध्वनि उत्पन्न करता है ।…और वही जब बेसुरा हो जाता है ,जब शरीर में हृदय की धड़कन लयबद्ध नहीं रहती , जब जीवन के भीतर -शरीर के भीतर – संगीत गायब हो जाता है, तो मनुष्य चिड़चिड़ा हो जाता है । उसका व्यवहार रुखा होने लगता है ।
पता नहीं किसी ने यह शोध किया या नहीं किया कि मनुष्य की मन:स्थिति उसके शरीर के भीतर हृदय की धड़कनों के साथ जुड़ी हुई होती है। हृदय की धड़कन जितनी व्यवस्थित होंगी और जितनी लयबद्ध होगी, मनुष्य को भीतर से उतना ही आनंदित करेगी। मनुष्य जब शांत अवस्था में बैठता है और अपने भीतर झांकता है ,तब एक संगीत उस शांति में अपनी पूरी प्राणवत्ता के साथ उपस्थित हो जाता है। वह कहां से आता है – कोई नहीं जानता । लेकिन वह संगीत इस संपूर्ण सृष्टि में विद्यमान है । किसी प्रकार से हम उसे खोज कर ले आते हैं और संगीत की उस ध्वनि के साथ सामंजस्य में बैठकर अपने जीवन को धन्य कर लेते हैं।
*******************************
लेखक: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा , रामपुर( उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
Tag: लेख
120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
कृष्णकांत गुर्जर
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
The most awkward situation arises when you lie between such
The most awkward situation arises when you lie between such
Sukoon
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
मौज-मस्ती
मौज-मस्ती
Vandna Thakur
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
इजहार ए इश्क
इजहार ए इश्क
साहित्य गौरव
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
24 के लिए
24 के लिए
*Author प्रणय प्रभात*
"वक्त के पाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
बुद्धिमान बनो
बुद्धिमान बनो
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अंग अंग में मारे रमाय गयो
अंग अंग में मारे रमाय गयो
Sonu sugandh
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
कृषक
कृषक
Shaily
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अलार्म
अलार्म
Dr Parveen Thakur
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
जीवन के सफ़र में
जीवन के सफ़र में
Surinder blackpen
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...