Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2023 · 2 min read

प्यासा_कबूतर

मरुभूमि और रणभूमि में जब किसी को प्यास लगती है तो उसे पानी का महत्व पता चलता है इन कबूतरों को देखो जब उसे प्यास लगी तो वह पानी की तलाश में निकला और उसे पानी नहीं मिल रहा था तो प्यासा कबूतर इधर-उधर भटक रहा था जहां पानी उसे दिखा तो वहां कोई और था जहां पानी नहीं था वहां कोई नहीं था फिर प्यासा कबूतर की नजर एक पाइप पर पड़ी उस पाइप से थोड़ी-थोड़ी पानी निकल रही थी उस पाइप पे प्यासा कबूतर बैठ गया और अपनी प्यारी ठोर (मुँह) से पानी को पीने लगा उस समय मैं और मेरा दोस्त Sanaullah वही मौजूद थे उस प्यासा कबूतर की प्यास देख रहे थे फिर हमने सोचा उस पाइप की पानी थोड़ा तेज कर दे

फिर याद आया कि अगर हम गए तो यह प्यासा कबूतर उड़ जाएगा और फिर यह प्यासा कबूतर इधर उधर पानी की तलाश में भटकने लगेगा तो हम क्या करते दूर से उस प्यासा कबूतर की दृश्य देख रहे थे एक पल के लिए ऐसा लगा कि जो उसके आंखों से बह रहे आँसु को अर्पित करूँ लेकिन वह डर रहा था वह जो पानी पी रहा है जितना उसे पीने के लिए मिल रहा है उसे भी वह वंचित न हो जाए पानी जिसे हम और आप अधिक मात्रा में नष्ट कर रहे हैं हम किसी और का प्रवाह नहीं कर रहे हैं हम लोगों ने कभी भी यह सोचने की कोशिश नहीं किया कि हम और आप कभी भी इस हालात में पड़ जाएंगे उस समय हमारा क्या होगा

पानी को अधिक मात्रा में प्रयोग करना और उसे बहाना उसका भी हमसे हिसाब लिया जाएगा और पूछा जाएगा कि तुमने अधिक मात्रा में पानी का उपयोग क्यों किया
और जो दूसरा प्यासा था उसे पीने के लिए पानी नसीब नहीं हुआ उस समय हमारा भी वही हाल होगा जो इन कबूतरों के साथ हुआ हम सब सिर्फ अपना ही देखते हैं लेकिन हमें खुद के साथ-साथ दूसरों के बारे में भी सोचना चाहिए ताकि दूसरों को भी जरूरत पूरा हो सके जो अधिकार हम पर थोपा गया है वह पूरा हो और जिस पानी को हम खत्म कर रहे हैं उस पानी की खत्म हो जाने से हम खत्म हो जाएंगे।

जाकर उनसे पूछो जहां पानी नहीं है उनका क्या हाल है और जहां पानी है भी वहां जरूरत पूरी नहीं होती आप वहां उनके पास रहों फिर आपको पता चलेगा हम नलका खोल कर छोड़ देते हैं और हमें फर्क ही नहीं पड़ता है
आप इसे कहानी मत समझना आप इस तस्वीर में कबूतरों के हाल को देख कर समझ सकते हैं यह घटना हम सबके साथ तो हो चुका है लेकिन हम भूल गए हैं अगर आपके साथ नहीं हुआ है तो आपके साथ जरूर होगा

संस्कृत में एक कहावत है

जस करनी तष भोग न जाता
नर्क जात क्यों पछताता

आप सभी से अनुरोध है कि आप आवश्यकता अनुसार पानी का उपयोग करें
जय हिंद ❤🤍💚

शकिल आलम
छात्र पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग MANUU (Hederabad)

3 Likes · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक चुटकी सिन्दूर
एक चुटकी सिन्दूर
Dr. Mahesh Kumawat
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
लक्ष्मी सिंह
अपनी हीं क़ैद में हूँ
अपनी हीं क़ैद में हूँ
Shweta Soni
"ज्यादा मिठास शक के घेरे में आती है
Priya princess panwar
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
ruby kumari
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
3470🌷 *पूर्णिका* 🌷
3470🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
बचपन में थे सवा शेर
बचपन में थे सवा शेर
VINOD CHAUHAN
* गूगल वूगल *
* गूगल वूगल *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सीख लिया है सभी ने अब
सीख लिया है सभी ने अब
gurudeenverma198
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
Shashi Dhar Kumar
■आओ करें दुआएं■
■आओ करें दुआएं■
*प्रणय प्रभात*
बोलो राम राम
बोलो राम राम
नेताम आर सी
ना जाने क्यों...?
ना जाने क्यों...?
भवेश
"तरबूज"
Dr. Kishan tandon kranti
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अकेले मिलना कि भले नहीं मिलना।
अकेले मिलना कि भले नहीं मिलना।
डॉ० रोहित कौशिक
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
गुरुकुल शिक्षा पद्धति
गुरुकुल शिक्षा पद्धति
विजय कुमार अग्रवाल
इतनी बिखर जाती है,
इतनी बिखर जाती है,
शेखर सिंह
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
वस हम पर
वस हम पर
Dr fauzia Naseem shad
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...