Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2023 · 1 min read

* प्यार की बातें *

** गीतिका **
~~
बरसती जा रही हैं खूब बरसातें।
कबूतर कर रहे हैं प्यार की बातें।

खुला छाता मिला है लाल सुन्दर सा।
कभी कुदरत दिखाती हैं करामातें।

करें क्या बात मन में आ नहीं पाता।
सहज होती नहीं देखो मुलाकातें।

गुटर गूं का बना माहौल है प्यारा।
सुखद मौसम बिताएं चान्दनी रातें।

यहां इन्सान ने गड़बड़ बहुत की है।
नहीं यूं ही बटीं है मुफ्त खैरातें।

धरा पानी गगन कचरा भरा देखो।
बहुत भारी पड़ेगी ये खुराफातें।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हि.प्र.)

153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
फूल
फूल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
मां बाप के प्यार जैसा  कहीं कुछ और नहीं,
मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,
Satish Srijan
चली ⛈️सावन की डोर➰
चली ⛈️सावन की डोर➰
डॉ० रोहित कौशिक
...........,,
...........,,
शेखर सिंह
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
"बेड़ियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
manjula chauhan
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
ना आप.. ना मैं...
ना आप.. ना मैं...
'अशांत' शेखर
कर्म से कर्म परिभाषित
कर्म से कर्म परिभाषित
Neerja Sharma
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
पूर्वार्थ
प्रबुद्ध लोग -
प्रबुद्ध लोग -
Raju Gajbhiye
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
जीने की
जीने की
Dr fauzia Naseem shad
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कोई रहती है व्यथा, कोई सबको कष्ट(कुंडलिया)
कोई रहती है व्यथा, कोई सबको कष्ट(कुंडलिया)
Ravi Prakash
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
Loading...