Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2023 · 1 min read

प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।

प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
जब भी डूबता ज़माना है, किनारा सच्चे ही बन जाते है।

1 Like · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
Taj Mohammad
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Sakshi Tripathi
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*पेड़*
*पेड़*
Dushyant Kumar
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
' चाह मेँ ही राह '
' चाह मेँ ही राह '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दोहे- उदास
दोहे- उदास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हिटलर
हिटलर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इ इमली से
इ इमली से
Dr. Kishan tandon kranti
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
Dear me
Dear me
पूर्वार्थ
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
2752. *पूर्णिका*
2752. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्रभु की शरण
प्रभु की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो नयनों की रार का,
दो नयनों की रार का,
sushil sarna
■ ट्रिक
■ ट्रिक
*Author प्रणय प्रभात*
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
Sarfaraz Ahmed Aasee
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
स्वयं के हित की भलाई
स्वयं के हित की भलाई
Paras Nath Jha
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
Loading...