Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2022 · 1 min read

प्यारे गुलनार लाये है

**प्यारे गुलनार लाये हैं**
********************

दिल के दिलदार लाये हैं,
पौधे फलदार लाये हैं।

झाबा वो आम रसवाला,
मीठे रसदार लाये हैं।

मुखड़ा भी है खिला जैसे,
खिलता गुलज़ार लाये हैं।

तेरे दर पाहुना आये,
प्यारे गुलनार लाये हैं।

मनसीरत प्यार जो तेरा,
खबरी अखबार लाये हैं।
*******************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Language: Hindi
162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खाक पाकिस्तान!
खाक पाकिस्तान!
Saransh Singh 'Priyam'
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
Chunnu Lal Gupta
जीवन है मेरा
जीवन है मेरा
Dr fauzia Naseem shad
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
निजी विद्यालयों का हाल
निजी विद्यालयों का हाल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
बदलता भारत
बदलता भारत
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
तुम नहीं हो
तुम नहीं हो
पूर्वार्थ
तू मेरा मैं  तेरी हो जाऊं
तू मेरा मैं तेरी हो जाऊं
Ananya Sahu
बुद्धिमान बनो
बुद्धिमान बनो
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*आगे जीवन में बढ़े, हुए साठ के पार (कुंडलिया)*
*आगे जीवन में बढ़े, हुए साठ के पार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
Mahendra Narayan
प्रेम 💌💌💕♥️
प्रेम 💌💌💕♥️
डॉ० रोहित कौशिक
💐अज्ञात के प्रति-149💐
💐अज्ञात के प्रति-149💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़मी के मुश्किलो ने घेरा तो दूर अपने साये हो गए ।
ज़मी के मुश्किलो ने घेरा तो दूर अपने साये हो गए ।
'अशांत' शेखर
कविता -
कविता - "करवा चौथ का उपहार"
Anand Sharma
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
कृष्णकांत गुर्जर
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
Ashish shukla
ठंडा - वंडा,  काफ़ी - वाफी
ठंडा - वंडा, काफ़ी - वाफी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मिस्टर जी आजाद
मिस्टर जी आजाद
gurudeenverma198
सत्य की खोज........एक संन्यासी
सत्य की खोज........एक संन्यासी
Neeraj Agarwal
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
Loading...