Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

पैसा होय न जेब में,

पैसा होय न जेब में,
रखिए नहीं खटास
लेकिन रहे ज़ुबान पर,
हरदम घुली मिठास
महावीर उत्तरांचली

3 Likes · 2 Comments · 146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
Manoj Mahato
भले कठिन है ज़िन्दगी, जीना खुलके यार
भले कठिन है ज़िन्दगी, जीना खुलके यार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
"अमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज का प्रहार
■ आज का प्रहार
*Author प्रणय प्रभात*
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
Seema Verma
कांटें हों कैक्टस  के
कांटें हों कैक्टस के
Atul "Krishn"
"भोर की आस" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
** समय कीमती **
** समय कीमती **
surenderpal vaidya
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
Er. Sanjay Shrivastava
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
पिय
पिय
Dr.Pratibha Prakash
होली गीत
होली गीत
Kanchan Khanna
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मजदूर दिवस पर
मजदूर दिवस पर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
" हैं पलाश इठलाये "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
ईर्ष्या
ईर्ष्या
नूरफातिमा खातून नूरी
आदमी को जिंदगी में कुछ कमाना चाहिए (हिंदी गजल/ गीतिका)
आदमी को जिंदगी में कुछ कमाना चाहिए (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
अधूरी मुलाकात
अधूरी मुलाकात
Neeraj Agarwal
2521.पूर्णिका
2521.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ईद आ गई है
ईद आ गई है
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
Loading...