Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 1 min read

पैगाम

पैगाम
बहुत दिनों बाद एक कागा मुंडेर पे बैठे हुए ,
किसी के आने का पैगाम लेकर आया।
चिठ्ठी का जमाना बदल गया आज इंटरनेट से संदेश पहुंचाया।
कुछ हमारी सुनते कुछ अपनी कहते हुए ,
जीवन का यही नया अंदाज सिखलाया।
पुराने जमाने में जब छत पे कागा बोले ,
नजर न आये कोई तो कहे यूँ ही कागा,
शायद पितृ पक्ष से कोई पितर बन ग्रास खाने आया।
नई दिशा से उम्मीद की किरणों का उजाला देखते हुए ,
नया सबेरा नई आशाओं से जीवन ज्योति जलाया।
कागा की बोली सुनकर माँ द्वार पर इंतजार करती ,
नजरें गड़ाए देख रही है शायद कोई मेरा अपना आया।
राह तकती कोई न आये कागा को बोलती झूठ बोल रहा है।
ऐसे ही न जाने क्यों रोज मुंडेर पे बैठे हुए ,
आवाजें निकलता पितृ पक्ष का चला गया।
सासु माँ कहती वो शायद कोई पितृ पक्ष में खाने दर्शन देने कागा छत पर रोज आ जाता।
कागा के दर्शन दुर्लभ हो रहे हमें मिलकर उसे बचाना है।
शशिकला व्यास✍️
🌟✨🌟✨🌟✨🌟✨🌟✨🌟✨

281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
ना कुछ जवाब देती हो,
ना कुछ जवाब देती हो,
Dr. Man Mohan Krishna
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
कोई पूछे की ग़म है क्या?
कोई पूछे की ग़म है क्या?
Ranjana Verma
■ मसखरी
■ मसखरी
*Author प्रणय प्रभात*
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
💐प्रेम कौतुक-513💐
💐प्रेम कौतुक-513💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
सत्य और अमृत
सत्य और अमृत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
Ravi Prakash
तुम मेरे बाद भी
तुम मेरे बाद भी
Dr fauzia Naseem shad
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
2725.*पूर्णिका*
2725.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन
जीवन
Monika Verma
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
Chehre se sundar nhi per,
Chehre se sundar nhi per,
Vandana maurya
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
बता तुम ही सांवरिया मेरे,
बता तुम ही सांवरिया मेरे,
Radha jha
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
"जय जवान जय किसान" - आर्टिस्ट (कुमार श्रवण)
Shravan singh
मेरी किस्मत को वो अच्छा मानता है
मेरी किस्मत को वो अच्छा मानता है
कवि दीपक बवेजा
रात भर इक चांद का साया रहा।
रात भर इक चांद का साया रहा।
Surinder blackpen
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
Rajesh vyas
*अयोध्या के कण-कण में राम*
*अयोध्या के कण-कण में राम*
Vandna Thakur
Loading...