Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2023 · 2 min read

पेइंग गेस्ट

पेईंग गेस्ट

“अरे यार, जल्दी कर। साढ़े छह बज गए। लगता है कि आज फिर से क्लास लेट पहुंचेंगे।” रमेश ने कहा।
“बस यार, मैं कंघी कर लूं, फिर निकलते हैं।” सुरेश ने कहा।
“वह तो चलते-चलते भी कर सकता है न। चल अब, जल्दी कर।” रमेश ने कहा और वे दोनों कमरे से बाहर निकल पड़े।
दोनों दोस्त नीट परीक्षा की कोचिंग के लिए राजस्थान के कोटा शहर में एक वृद्धा लक्ष्मी ताई के घर पेईंग गेस्ट के रूप में उनके फर्स्ट फ्लोर पर रहते थे।
जैसे ही वे दोनों नीचे उतरे, हमेशा की तरह लक्ष्मी ताई दिखीं नहीं, तो सुरेश ने कहा, “भाई, तुमने आज कुछ गौर किया ?”
रमेश ने पूछा, “क्या ?”
सुरेश बोला, ये लक्ष्मी ताई दिखी नहीं आज सुबह-सुबह। वह तो हमें रोज सुबह नीचे घर की साफ-सफाई करती हुई दीख जाती थी। पर आज ?”
रमेश लापरवाहीपूर्वक बोला, “छोड़ न यार। सो रही होगी आज बुढ़िया। हम वैसे ही लेट हो चुके हैं। अब ज्यादा पंचायती मत कर। बुढ़िया लंच टाइम तक टिफिन लेकर पहुंच जाएगी इंस्टीट्यूट में।”
सुरेश बोला, “नहीं यार। तू चल क्लास अटेंड कर। मैं देखता हूं लक्ष्मी ताई आखिर आज अभी तक उठी क्यों नहीं ? कहीं उनकी तबीयत तो खराब नहीं हो गई ?”
रमेश बोला, “ज्यादा सेंटीमेंट मत हो। हम लक्ष्मी ताई के पेईंग गेस्ट हैं, कोई सगा नहीं। हमारा और उनका संबंध सिर्फ लेन-देन पर आधारित है।”
सुरेश ने कहा, “देख भाई, हम पीजी होने से पहले एक इंसान भी हैं। हमारी कुछ नैतिक जिम्मेदारी भी बनती हैं उनके प्रति।”
रमेश बोला, “हां यार, बात तो तुम्हारी एकदम सही है। चल देखते हैं कि माजरा क्या है ?”
दोनों ने लक्ष्मी ताई का दरवाजा खटखटाया। दरवाजा अंदर से बंद नहीं था, सो खुल गया। पास जाकर देखा कि लक्ष्मी ताई तेज बुखार से बड़बड़ा रही हैं। वे दोनों तुरंत लक्ष्मी ताई को नजदीकी हॉस्पिटल ले गए। रास्ते में ही उन्होंने उसी शहर में रह रही लक्ष्मी ताई की इकलौती बेटी को फोन करके सूचित कर दिया। वे भी अपने पति के साथ तुरंत हॉस्पिटल पहुंच गईं। समय पर पता चल जाने से लक्ष्मी ताई का इलाज आसानी से हो गया।
हां, उस दिन दोनों को अपना पहला पीरीयड मिस करना पड़ा, पर उन्हें संतोष इस बात का था कि उन्होंने अपना कर्तव्य पूरा किया।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिव अराधना
शिव अराधना
नवीन जोशी 'नवल'
*डॉ मनमोहन शुक्ल की आशीष गजल वर्ष 1984*
*डॉ मनमोहन शुक्ल की आशीष गजल वर्ष 1984*
Ravi Prakash
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
Phool gufran
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
मेरी साँसों में उतर कर सनम तुम से हम तक आओ।
मेरी साँसों में उतर कर सनम तुम से हम तक आओ।
Neelam Sharma
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
Slok maurya "umang"
जय अम्बे
जय अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
RAKESH RAKESH
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
Rj Anand Prajapati
गौतम बुद्ध के विचार --
गौतम बुद्ध के विचार --
Seema Garg
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
Naushaba Suriya
बड़े दिलवाले
बड़े दिलवाले
Sanjay ' शून्य'
*मौन की चुभन*
*मौन की चुभन*
Krishna Manshi
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
शेखर सिंह
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
सागर की ओर
सागर की ओर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शब्द मधुर उत्तम  वाणी
शब्द मधुर उत्तम वाणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*कृष्ण की दीवानी*
*कृष्ण की दीवानी*
Shashi kala vyas
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
Shweta Soni
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
काल  अटल संसार में,
काल अटल संसार में,
sushil sarna
Loading...