Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

पृष्ठों पर बांँध से

पृष्ठों पर बांँध से
बांँधी गई नारी सरिता।
प्यासा झीलों से
कूओं का पानी मांँगे ।।
मैं नहीं और कोई
और ना तो और सही ।
ये ज़माना तो महज़
कहने को कहानी मांँगे ।।

नीलम शर्मा ✍️

1 Like · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
करके देखिए
करके देखिए
Seema gupta,Alwar
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐ ज़िंदगी।
ऐ ज़िंदगी।
Taj Mohammad
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
अहा! जीवन
अहा! जीवन
Punam Pande
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वर्दी
वर्दी
Satish Srijan
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (हास्य कुंडलिया)
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
*प्रणय प्रभात*
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
बुजुर्ग ओनर किलिंग
बुजुर्ग ओनर किलिंग
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
gurudeenverma198
2472.पूर्णिका
2472.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"सोचो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...