Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2024 · 1 min read

पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।

पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
मुस्कुराकर सब दुख भूल जाओ वो जीवन है।।
जीत कर ग़र खुश हुए तो क्या हुए!!!
हार कर खुशियाँ मनाओ तो जीवन है। ।

नीलम शर्मा ✍️

56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पता नहीं किसने
पता नहीं किसने
Anil Mishra Prahari
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
पूर्वार्थ
क्या वैसी हो सच में तुम
क्या वैसी हो सच में तुम
gurudeenverma198
जुग जुग बाढ़य यें हवात
जुग जुग बाढ़य यें हवात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
शिव प्रताप लोधी
*खारे पानी से भरा, सागर मिला विशाल (कुंडलिया)*
*खारे पानी से भरा, सागर मिला विशाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3043.*पूर्णिका*
3043.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कितना और सहे नारी ?
कितना और सहे नारी ?
Mukta Rashmi
अपने कदमों को
अपने कदमों को
SHAMA PARVEEN
संकल्प
संकल्प
Bodhisatva kastooriya
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
इंजी. संजय श्रीवास्तव
" हर वर्ग की चुनावी चर्चा “
Dr Meenu Poonia
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नन्दी बाबा
नन्दी बाबा
Anil chobisa
शमशान घाट
शमशान घाट
Satish Srijan
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
जल से निकली जलपरी
जल से निकली जलपरी
लक्ष्मी सिंह
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
"बे-दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल वीर दिवस
बाल वीर दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
परतंत्रता की नारी
परतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
आज का युवा कैसा हो?
आज का युवा कैसा हो?
Rachana
Loading...