Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2023 · 2 min read

पुनर्जन्म का सत्याधार

भौतिक जगत में किसी भी जीव के अस्तित्व का मूल उसकी भौतिक संरचना है ,जो विभिन्न परिस्थितियों में उसके सुचारू रुप से जीवन निर्वोह का कारण होती है।
मनुष्य शरीर की संरचना के दो प्रमुख तत्व हैं।
प्रथम स्थूल शरीर एवं द्वितीय सूक्ष्म शरीर।
स्थूल शरीर विभिन्न बाह्य अंगों एवं आंतरिक अंगों से मिलकर मनुष्य की भौतिक स्थिति को निर्धारित करता है।
सूक्ष्म शरीर वह अदृश्य शक्ति है जो मनुष्य के शरीर के कार्यकलापों की चेतना को संचालित करती है , जिसे हम आत्मा के नाम से परिभाषित करते हैं।
मनुष्य का मस्तिष्क एक जटिल तंत्रिका कोशिका संगठित रचना है , जो विभिन्न अंगों के कार्यकलापों हेतु चेतना का निर्माण एवं उन्हें नियंत्रित करती है।
मस्तिष्क का एक भाग स्मरण शक्ति संग्रहित करता है , तथा संज्ञान एवं प्रज्ञा शक्ति को निर्धारित करता है। विभिन्न जैव रासायनिक स्राव इन्हे निरंतर पोषित करते रहते हैं ।
वास्तव में सूक्ष्म शरीर अर्थात आत्मा वह अदृश्य शक्ति है , जो मस्तिष्क को संचालित कर मनुष्य को जीवंत रखती हैं। इसके स्थूल शरीर को छोड़ने के फलस्वरुप मनुष्य मृत्यु को प्राप्त होता है ।
अदृश्य आयाम युक्त यह आत्मा पुनर्जन्म में नवीन स्थूल शरीर धारण करती है।
पुनर्जन्म की परिकल्पना का सत्याधार इस बात से स्पष्ट होता है कि पूर्व जन्म की बातों को इस जन्म में याद रखने का प्रमाण प्रकट होना, जो एक अकल्पनीय एवं अलौकिक घटित प्रमाण है।
विभिन्न धर्मों के मतावलंबी भी पुनर्जन्म को प्रतिपादित करते हैं।
इस विषय में विवेचना करने से यह स्पष्ट होता है कि मनुष्य की स्मरण शक्ति मस्तिष्क में संचालित करने में अंतस्थ आत्मा की प्रमुख भूमिका है ,
जो शरीर छोड़ने के पश्चात भी वे स्मृतियाँ आत्मा में विद्यमान रहती है , और पुनर्जन्म होने पर कुछ समय के लिए उस नए मस्तिष्क में पूर्व स्मृति के रूप में प्रगट होती है।
वर्तमान में वैज्ञानिक रूप से अनुसंधान करने पर यह पाया गया है कि मनुष्य के पूर्व जन्म की स्मृतियाँ उसके मन मस्तिष्क में पुनर्जन्म के पश्चात कुछ समय तक विद्यमान रहती हैं , जो कालांतर में धीरे-धीरे क्षीण होकर विस्मृत हो जाती हैं।
अतः हम यह कह सकते हैं कि मस्तिष्क का अधिमान संचालक आत्मा ही है , जो मस्तिष्क को स्थूल शरीर के कार्यकलापों को संचालित करने के लिए निर्देश देती है।
तपस्वियों एवं साधकों ने साधना के माध्यम से पूर्व जन्म स्मृतियों का आवाहन् करके पुनर्जन्म के सत्याधार को सिद्ध किया है।

Language: Hindi
Tag: लेख
381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
Vinit kumar
कसौटी
कसौटी
Sanjay ' शून्य'
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
■ आखिरकार ■
■ आखिरकार ■
*Author प्रणय प्रभात*
एहसास
एहसास
Vandna thakur
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
Vishal babu (vishu)
चुप
चुप
Ajay Mishra
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
Vindhya Prakash Mishra
जीवन में
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
केना  बुझब  मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
केना बुझब मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
DrLakshman Jha Parimal
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
Ravi Prakash
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
किताब
किताब
Sûrëkhâ
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
मुक्तक
मुक्तक
anupma vaani
संगीत
संगीत
Neeraj Agarwal
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
Harminder Kaur
बेटा
बेटा
अनिल "आदर्श"
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
अभी मेरी बरबादियों का दौर है
अभी मेरी बरबादियों का दौर है
पूर्वार्थ
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
Loading...